Home » इंडिया » RTI reveals when Amit Shah was Director of DCCB Collected Highest Amount of Banned Notes in demonetisation
 

अमित शाह जिस बैंक के हैं निदेशक, नोटबंदी के दौरान उसमें जमा हुए थे सबसे ज्यादा पुराने नोट

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 June 2018, 15:06 IST

सूचना के अधिकार यानि आरटीआई से खुलासा हुआ है कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह जिस बैंक के निदेशक रहे हैं वह नोटबंदी के दौरान सबसे ज्यादा प्रतिबंधित 500 और 1000 रुपये के नोट जमा करने वाला जिला सहकारी बैंक है. बैंक की वेबसाइट के अनुसार, अमित शाह उस समय बैंक में निदेशक पद पर थे. वह साल 2000 में बैंक के अध्यक्ष भी रह चुके हैं. 

मुंबई के एक आरटीआई कार्यकर्ता को यह जानकारी प्राप्त हुई है. जानकारी के अनुसार, अहमदाबाद जिला सहकारी बैंक (एडीसीबी) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नोटबंदी की घोषणा करने के महज पांच दिन के भीतर 745.59 करोड़ रुपये मूल्य के प्रतिबंधित नोट जमा किये थे.

आरटीआई के अनुसार, एडीसीबी के पास 31 मार्च 2017 को कुल 5,050 करोड़ रुपये जमा थे और वित्त वर्ष 2017-18 में बैंक का शुद्ध मुनाफा 14.31 करोड़ रहा था.

 

हालांकि नोटबंदी की घोषणा के पांच दिन बाद सभी जिला सहकारी बैंकों को प्रतिबंधित नोट जमा करने से मना कर दिया गया था क्योंकि यह आशंका जताई गई थी कि सहकारी बैंकों के जरिए काले धन को सफेद किया जा सकता है.

बता दें कि मोदी सरकार ने आठ नंवबर 2016 को रात आठ बजे अचानक नोटबंदी की घोषणा कर दी थी. नोटबंदी में उन्होंने उस समय चलन में रहे 500 और 1000 रुपये के नोटों पर प्रतिबंध लगाकर उन्हें चलन से बाहर कर दिया था. इसके बाद देश में आर्थिक भूचाल आ गया था. 

मुंबई के आरटीआई कार्यकर्ता मनोरंजन एस. रॉय ने बताया कि नोटबंदी के बाद पहली बार राज्य सहकारी बैंकों और जिला केंद्रीय सहकारी बैंकों में जमा रकम की जानकारी का खुलासा आरटीआई के जरिए हुआ है. 

ताज्जुब की बात यह है कि अमित शाह के बैंक के बाद सबसे ज्यादा प्रतिबंधित नोट जमा करने वाला सहकारी बैंक राजकोट जिला सहकारी बैंक है. इसके अध्यक्ष गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी की सरकार में कैबिनेट मंत्री जयेशभाई विठ्ठल रादड़िया हैं.

पढ़ें- पीएम मोदी को अविवाहित बताने वाली आनंदीबेन को जसोदाबेन का जवाब- वो मेरे राम हैं

भाजपा सरकार के मंत्री के इस बैंक ने 693.19 करोड़ रुपये मूल्य के प्रतिबंधित नोट जमा किए थे. बता दें कि राजकोट गुजरात में भाजपा की राजनीति का केंद्र रहा है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहली बार यहीं से 2001 में विधायक चुने गए थे.

First published: 22 June 2018, 9:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी