Home » इंडिया » Ruckus in CWC meeting, Sibal's retaliation on Rahul, Azad said - I will resign, know what is the whole matter
 

CWC बैठक में हुआ बवाल, चिट्ठी लिखने वाले 23 नेताओं को फटकार, सिब्बल और आजाद हुए नाराज

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 August 2020, 14:23 IST

आज कांग्रेस पार्टी कार्यसमिति (CWC) की वर्चुअल बैठक का ककयोजन किया गया. इस बैठक को कांग्रेस पार्टी के नए अध्यक्ष चुने जाने की कवायद के रूप में देखा जा रहा है, क्योंकि पार्टी के 23 नेताओं ने पत्र लिखकर एक ऐसे अध्यक्ष की मांग की थी, जो पार्टी को वक्त दे सके. इस बैठक में मनमोहन सिंह, प्रियंका गांधी वाड्रा, कैप्टन अमरिंदर सिंह सहित अन्य कांग्रेस नेता शामिल हुए. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इस बैठक में आरोप प्रत्यारोप का दौर भी चला. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बैठक में आरोप लगाया है कि जिन नेताओं ने इस वक्त चिट्ठी लिखी है वो भारतीय जनता पार्टी से मिले हुए हैं. जबकि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी ने चिट्ठी की आलोचना की. रिपोर्ट के अनुसार राहुल गांधी ने चिट्ठी की टाइमिंग पर सवाल खड़े किए.

सिब्बल ने किया ट्वीट, फिर किया डिलीट 


गांधी के इस बयान पर कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं ने प्रतिक्रिया दी. कपिल सिब्बल ने ट्वीट किया ''राहुल गांधी कहते हैं हमारी भाजपा से मिलीभगत है. पिछले 30 सालों में कभी भी किसी मुद्दे पर बीजेपी के पक्ष में बयान नहीं दिया. फिर भी हमारी भाजपा से मिलीभगत है''. सिब्बल ने कहा '' मैंने राजस्थान हाईकोर्ट में कांग्रेस पार्टी का सही पक्ष रखा, मणिपुर में पार्टी को बचाया. हालांकि उन्होंने बाद में ट्वीट हटा दिया और कहा ''राहुल गांधी द्वारा व्यक्तिगत रूप से सूचित किया गया कि उन्होंने कभी नहीं कहा. इसलिए मैं अपना ट्वीट वापस लेता हूं''.

चिट्ठी लिखने वाले नेताओं की कांग्रेस महाचिव प्रियंका गांधी ने भी आलोचना की. उन्होंने पत्र की आलोचना करते हुए अप्रत्यक्ष तौर पर उन नेताओं को दोहरे चरित्र का बताया. कपिल सिब्बल के ट्वीट पर पलटवार करते हुए दिव्या स्पंदना ने कहा- ''उन्होंने सिर्फ चिट्ठी ही लीक नहीं की बल्कि CWC बैठक का मिनट टू मिनट बातचीत को भी लीक कर रहे हैं.''

ANI के अनुसार CWC की बैठक के दौरान गुलाम नबी आज़ाद ने कहा कि अगर राहुल गांधी की भाजपा के साथ मिलीभगत की टिप्पणी सही साबित हुई तो वे इस्तीफा दे देंगे''. पार्टी के 23 नेताओं ने चिट्ठी लिखकर कहा था कि इस वक्त एक ऐसे अध्यक्ष की जरूरत है कि जो पूर्ण रूप से पार्टी को वक्त दे सके. इन 23 नामों में कपिल सिब्बल और गुलाम नबी आजाद का नाम शामिल हैं. 

इन नेताओं ने लिखी थी चिठ्ठी

इस चिट्ठी में गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, कपिल सिब्‍बल, मनीष तिवारी, शशि थरूर, सांसद विवेक तनखा, AICC और CWC के मुकुल वासनिक, भूपिंदर सिंह हुड्डा, राजेंद्र कौर भटट्ल, एम वीरप्‍पा मोइली, पृथ्‍वीराज चव्‍हाण, पीजे कुरियन, अजय सिंह, रेणुका चौधरी और मिलिंद देवड़ा, राज बब्‍बर, अरविंदर सिंह लवली और कौल सिंह, अखिलेश प्रसाद सिंह, कुलदीप शर्मा, योगानंद शास्‍त्री और संदीप दीक्षित के हस्‍ताक्षर हैं.

इससे पहले सोनिया गांधी ने अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने की पेशकश कर दी थी. कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने AICC कार्यालय के बाहर नारे लगाकर मांग की कि पार्टी अध्यक्ष गांधी परिवार से होना चाहिए. कांग्रेस कार्यकर्ता जगदीश शर्मा ने कहा, "हम गांधी परिवार से पार्टी अध्यक्ष चाहते हैं. अगर बाहरी व्यक्ति अध्यक्ष बना, तो कांग्रेस बर्बाद हो जाएगी और टूट जाएगी."

PMO की घोषणा- PM केयर फंड से बिहार में बनेंगे 2 COVID-19 अस्पताल, ये होंगी सुविधाएं

First published: 24 August 2020, 13:59 IST
 
अगली कहानी