Home » इंडिया » Sachin Tendulkar Rajya Sabha speech debut as Congress MPs create ruckus over PM Modi Pakistan remark on manmohan singh
 

राज्यसभा में विपक्ष के हंगामे की वजह से सचिन नहीं दे पाए 'डेब्यू' भाषण

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 December 2017, 16:53 IST

सचिन तेंदुलकर गुरुवार को राज्यसभा में अपनी पहली स्पीच नहीं दे पाए. मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर को 'राइट टू प्ले' पर बोलना था. लेकिन पीएम मोदी की माफी की मांग पर विपक्ष ने सदन में हंगामा जारी रखा. हंगामे के बीच सचिन तेंदुलकर राज्यसभा में बोलने के लिए खड़े हुए लेकिन कांग्रेस ने अपना हंगामा जारी रखा.

राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू ने विपक्ष से सचिन को बोलने देने की अपील की पर विपक्ष पर इसका असर नहीं पड़ा और उसने हंगामा जारी रखा. हंगामा शांत ना होते देख राज्यसभा की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी गई. इस तरह विपक्ष के शोरगुल के कारण भारत रत्न सचिन की डेब्यू स्पीच ना हो सकी.

सचिन को राज्यसभा में ना बोलने देने पर समाजवादी पार्टी की नेता और राज्यसभा सांसद जया बच्चन ने नाराजगी जाहिर की. उन्होंने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा, "जिस शख्स ने देश के लिए इतना नाम कमाया, आज उसे ही संसद में नहीं बोलने दिया गया. क्या स्पोर्ट्सपर्सन और आर्टिस्ट को सदन में नहीं बोलने दिया जाएगा."

जया ने कहा "ये शर्म की बात है कि सचिन को नहीं बोलने दिया गया, जब सबको पता था कि वो आज बोलने वाले हैं. क्या सिर्फ नेता ही सदन में बोलेंगे?"

दरअसल सचिन को 'राइट टू प्ले' के तहत अपनी स्पीच में देश में खेल और खिलाड़ियों को लेकर व्यवस्था, ओलंपिक की तैयारियों और किस तरह भारतीय खिलाड़ी दुनियाभर में अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं, इस तरह के खेल से संबंधित कई मुद्दों पर बोलना था.

 गौरतलब है कि सचिन तेंदुलकर  को साल 2012 में राज्यसभा के लिए मनोनीत किया गया था. इसके बाद रेखा और उनकी संसद में अनुपस्थिति को लेकर सवाल भी संसद में उठा. मनोनीत होने के बाद सदन की 348 दिनों की कार्यवाही में सचिन मात्र 23 दिनों तक सदन में रहे, जबकि रेखा सदन में 18 दिन ही आईं हैं.

गुरुवार सुबह सचिन अपनी पत्नी के साथ राज्यसभा में पहुंचे थे. पूरे देश को सचिन के डेब्यू भाषण का इंतजार था पर वो नहीं हो सका. 

First published: 21 December 2017, 16:23 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी