Home » इंडिया » Samajwadi Party leader Mulayam Singh Yadav tests positive for Coronavirus
 

मुलायम सिंह यादव कोविड-19 पॉजिटिव, गुरुगांव के मेदांता अस्पताल में किए गए भर्ती

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 October 2020, 23:26 IST

Mulayam Singh Yadav tests positive for COVID-19: समाजवादी पार्टी के संरक्षक और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) कोरोना संक्रमित (Corona Infected) पाए गए हैं. उनकी कोरोना रिपोर्ट (Corona Report) आने के बाद गुरुग्राम (Gurugram) के मेदांता अस्पताल (Medanta Hospital) में भर्ती कराया गया है. उनमें कोविड-19 (COVID--19) के एक भी लक्षण नहीं हैं. कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव (Corona Report Positive) आने के बाद डॉक्टर उनकी देखभाल कर रहे हैं.

इस बात की पुष्टि समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से भी दी गई है. सपा के ट्विटर हैंडल से बुधवार देर शाम इस बात की जानकारी दी गई. मुलायम सिंह यादव के अलावा उनकी पत्नी भी कोरोना संक्रमित पाई गई हैं. सपा ने अपने ट्विटर अकाउंट से लिखा, 'समाजवादी पार्टी संस्थापक आदरणीय नेताजी श्री मुलायम सिंह यादव जी की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आने के उपरांत चिकित्सकों की देख रेख जारी है. फिलहाल उनमें कोरोना के एक भी लक्षण नहीं हैं.'


Weather Update: हैदराबाद में बारिश से हाहाकार, कई इलाके जलमग्न, आठ लोगों की मौत, देश के कई इलाकों में आज भारी बारिश का अनुमान

मुलायम सिंह यादव के स्वास्थ्य से जुड़ी जानकारी देते हुए उनके बेटे और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट कर बताया कि, 'माननीय नेताजी का स्वास्थ्य स्थिर है. आज कोरोना पॉजिटिव होने पर गुड़गांव के मेदांता में उन्हें स्वास्थ्य-लाभ के लिए भर्ती कराया था. हम वरिष्ठ डॉक्टरों के निरंतर संपर्क में हैं और समय-समय पर सूचित करते रहेंगे.' बता दें कि कुछ समय पहले भी सपा नेता की तबीयत बिगड़ गई थी, जिसके बाद उन्हें लखनऊ स्थिति मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

14 महीने बाद रिहा हुईं महबूबा मुफ्ती, पार्टी नेताओं से की मुलाकात, कहा- कश्मीर के लिए संघर्ष रहेगा जारी

Hathras Case: यूपी सरकार ने SC में दिया हलफनामा, कहा- पीड़ित परिवार और गवाहों को दी जा रही सुरक्षा

उससे पहले अगस्त के शुरुआत में पेट में दर्द और पेशाब में संक्रमण की समस्या को लेकर वे अस्पताल में भर्ती हुए थे. उससे पहले कई दिनों तक उनका इलाज चला था और अस्पताल से डिस्चार्ज होने के कुछ समय बाद फिर उन्हें भर्ती करना पड़ा. अगस्त से पहले जब वे बीमार पड़े तो पेट में सूजन और दर्द था. जांच में पाया गया कि बड़ी आंत में समस्या है. उसके बाद कोलोनोस्कोपी करके साफ किया गया था. इसके बाद सेहत में सुधार होने पर डॉक्टरों ने उन्हें डिस्चार्ज कर दिया था.

दालों की बढ़ती कीतमों पर अंकुश लगाने के लिए एक्शन में केंद्र सरकार, उठाया ये बड़ा कदम

First published: 14 October 2020, 23:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी