Home » इंडिया » Samjhauta Express Blast Case: Accuse Aseemanand, 3 others acquitted by NIA Court
 

समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट केस में आया बड़ा फैसला, असीमानंद सहित सभी 4 आरोपी बरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 March 2019, 0:25 IST
Aseemanand

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की एक अदालत ने फरवरी 2007 में समझौता एक्सप्रेस में हुए विस्फोट के मामले में हिंदू नेता स्वामी असीमानंद समेत सभी चार आरोपियों को बरी कर दिया. 18 फरवरी 2007 को हरियाणा के पानीपत के पास ट्रेन में हुए इस बम विस्फोट में 68 लोग मारे गए थे. इनमें 43 पाकिस्तानी, 10 भारतीय और 15 अज्ञात लोग थे. दस पाकिस्तानियों समेत कई लोग घायल भी हुए थे.


एनआईए की अदालत ने जनवरी 2014 में असीमानंद, कमल चौहान, राजिंदर चौधरी और लोकेश शर्मा के खिलाफ आरोप निर्धारित किए थे. यह सभी बुधवार को अदालत में मौजूद थे. इन सभी पर हत्या, देशद्रोह, हत्या, हत्या के प्रयास, आपराधिक षडयंत्र के आरोप थे.


2007 में हुआ था समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट

ये मामला 18 फरवरी, 2007 को हरियाणा के पानीपत के पास अटारी एक्सप्रेस (समझौता) ट्रेन में हुए धमाकों की आपराधिक साजिश से संबंधित है. ब्लास्ट के बाद ट्रेन के डिब्बों में आग लगने से 68 लोग मारे गए थे. महिलाओं और बच्चों समेत 12 यात्री भी धमाकों में घायल हो गए थे. दूसरा मामला जिसमें पुरोहित आरोपी हैं वो 29 सितंबर, 2008 का है. जब महाराष्ट्र के मालेगांव में हुए बम विस्फोट में चार लोग मारे गए थे. ब्लास्ट में कई लोग जख्मी भी हुए थे.

एनआईए: समझौता ब्लास्ट में कर्नल पुरोहित के खिलाफ सबूत नहीं

First published: 21 March 2019, 0:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी