Home » इंडिया » sanjay nirupam allege to uddhav thackeray wife about 900 coro land purchasing
 

संजय निरूपम: उद्धव की पत्नी ने 900 करोड़ की जमीन खरीदी, पैसा कहां से आया?

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 August 2016, 10:30 IST
(एजेंसी)

मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष संजय निरूपम ने शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे की पत्नी रश्मि ठाकरे पर आरोप लगाया है कि उन्होंने 450 एकड़ भूखंड की खरीदारी की है. निरूपम का कहना है कि रश्मि ठाकरे के साथ राज्यमंत्री रवींद्र वायकर की पत्नी मनीषा ने मिलकर जमीन खरीदी है.

निरूपम ने इस व्यावसायिक संबंधों का खुलासा करते हुए बताया कि दोनों की पत्नियों ने मिलकर रायगढ़ के मुरुड परिसर और अन्य स्थानों पर 450 एकड़ जमीन खरीदी है, जिसकी अनुमानित बाजार कीमत लगभग 900 करोड़ रुपये है.

संजय निरूपम ने उद्धव ठाकरे पर आरोप लगाते हुए कहा कि वह कोंकण में भगवा और हिंदुत्व के नाम पर कसमें खिलाकर वोट मांगते हैं. उसके बाद उनकी जमीन को लूटते हैं.

निरूपम ने कहा कि रश्मि और मनीषा ने मिलकर रायगढ़ जिले के मुरुड़ तालुका के कोर्लई गांव में 850 गुंठा यानी तकरीबन साढ़े 8 लाख वर्ग फुट जमीन खरीदी है, जिसकी अनुमानित कीमत करोड़ों में है. उन्होंने पूछा कि ये पैसे कहां से आए.

निरूपम ने कहा कि कारोबार करना तो कहीं से गलत नहीं है, लेकिन उनकी जमीनों को खरीदने के लिए पैसे कहां से आएं हैं, वो जनता को बताएं.

गौरतलब है कि कुछ दिन पूर्व पहले निरूपम ने फड़नवीस सरकार के राज्यमंत्री रवींद्र वायकर पर झोपड़पट्टी पुनर्वास योजना (एसआरए) में करोड़ों रुपये घोटाले का आरोप लगाया था.

इन आरोपों के बाद इस तरह के कयास लगाए जा रहे थे कि मंत्रिमंडल विस्तार में वायकर का पद जा सकता है, लेकिन उद्धव ठाकरे ने उन्हें हटाने की मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस की मांग को सिरे से खारिज कर दिया था. यही कारण है कि वायकर आज भी महाराष्ट्र सरकार के मंत्रिमंडल में बने हुए हैं.

निरूपम का आरोप है कि मंत्री वायकर के साथ उद्धव का निजी लाभ जुड़ा हुआ है. इसी के चलते मुख्यमंत्री फड़नवीस मातोश्री के दबाव में वायकर के एसआरए घोटाले की बिना जांच कराए क्लीन चिट दे रहे हैं.

उन्होंने सरकार से मांग की है कि वायकर के कथित घोटाले की हाईकोर्ट के वर्तमान न्यायमूर्ति की अध्यक्षता में न्यायिक आयोग गठित कर जांच करानी चाहिए. वायकर पर एसआरए घोटाले को साबित करने के लिए निरूपम ने विजय लक्ष्मी ग्रुप और विजय लक्ष्मी इंफ्राकॉन एलएलपी का हवाला दिया.

साथ ही निरूपम ने कहा कि विजय लक्ष्मी ग्रुप जोगेश्वरी गुफा के पास नियमों का उल्लंघन कर एसआरए प्रोजेक्ट शुरू किया है. उनके मुताबिक इसमें रवींद्र वायकर, रश्मि ठाकरे के मामा दिलीप श्रृंगारपुरे और गुरप्रीत गुप्ता निदेशक हैं.

First published: 3 August 2016, 10:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी