Home » इंडिया » Santosh hedge former advocated to legalise prostitution in india along with batting
 

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज संतोष हेगडे की मांग- सट्टेबाजी के साथ वैश्यावृति को लीगल करे लॉ कमीशन

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 July 2018, 13:50 IST

देश में लॉ कमीशन ने सट्टेबाजी को वैध घोषित करने की पैरवी की है. लॉ कमीशन के इस सुझाव का सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज एन.संतोष हेगड़े ने भी समर्थन किया है. यहां तक की संतोष हेगड़े ने देश में वेश्यावृत्ति को वैध करने की बात भी कही है. वेश्यावृत्ति और सट्टेबाजी पर बात करते हुए हेगड़े ने कहा, ''जो व्यक्ति यह सोचता है कि अवगुणों को कानून की मदद से रोका जा सकता है तो वह व्यक्ति बेवकूफ है.''

सरकार द्वारा सट्टेबाजी को वैध करने का प्रस्ताव इसलिए लाया गया है जिससे कि सरकार कम से कम इस पर नियंत्रण बनाये रखे. इसे वैध करने के बाद सरकार इसे प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष टैक्स के दायरे में ला सकेगी. साथ ही सट्टेबाजी को वैध करने के बाद प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को भी आकर्षित किया जा सकेगा.

ये भी पढ़ें- हाईकोर्ट का निर्देश: ड्राइविंग करते समय बात करने वालों का मोबाइल करें जब्त

लॉ कमीशन के इस फैसले को सही बताते हुए पूर्व सॉलिसिटर जनरल संतोष हेगड़े ने अपनी सहमति दर्ज कराई है. साथ ही उनका कहना है कि समाज के कुछ अवगुणों को जिन्हें हम कानून के डर से नियंत्रित नहीं कर सकते तो उनके लिए दूसरे रास्ते अपनाने होते हैं. और अगर इन्हें नियंत्रित करने की कोशिश की भी जाये तो ये अवगुण गैरकानूनी तरीके से अपना एक सिस्टम डेवलेप कर लेंगे.

साथ ही उन्होंने शराबबंदी का उदाहरण देते हुए कहा कि जहां पर भी शराब बंद हुई वहां कोई न कोई गैरकानूनी तरीका निकाल लिया गया. और इसका असर सरकार पर ही नकारात्मक हुआ कि सरकार को एक्साइज ड्यूटी से हाथ धोना पड़ा.

ये भी पढ़ें- सुनंदा पुष्कर मामले में थरूर को मिली जमानत, स्वामी ने कसा तंज

सट्टेबाजी को वैध करने के इस फैसले के समर्थन के क्रम में ही हेगड़े ने वेश्यावृत्ति को भी वैध घोषित करने का समर्थन किया. इसके पीछे कारण यही था कि वैध करने के बाद ही इन पर नियंत्रण किया जा सकेगा. गैरकानूनी तरीके से होने वाली चीज़ों पर सरकार का कोई नियंत्रण नहीं होता, वहीं अगर इन्हे कानूनी रूप दिया जायेगा तो इनकी गतिविधियों पर सरकार और कानून पैनी नजर रख सकेगा जो की गैरकानूनी कामों को नियंत्रित करने से ज्यादा आसान है. 

First published: 7 July 2018, 13:50 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी