Home » इंडिया » Saradha scam: CBI questions Kolkata police chief Rajeev Kumar in Shillong
 

सारदा घोटाला: CBI के दफ्तर में कोलकाता पुलिस कमिश्नर, लंबी है सवालों की सूची

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 February 2019, 13:54 IST

कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को शिलांग में शनिवार को शारदा चिटफंड घोटाला मामले के सिलसिले में पेश किया जा रहा है. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार कुमार और सीबीआई अधिकारी शनिवार सुबह शिलॉन्ग स्थित CBI मुख्यालय पहुंचे. पिछले हफ्ते सुप्रीम कोर्ट द्वारा मेघालय की राजधानी को बैठक स्थल के रूप में चुना गया था.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार राजीव कुमार ने सीबीआई से अनुरोध किया है कि वह लंबे समय तक शिलांग में नहीं रह पाएंगे क्योंकि इससे सरस्वती पूजा और बोर्ड परीक्षाओं से पहले पुलिस की तैनाती का फैसला प्रभावित होगा. जबकि सरस्वती पूजा कल है, बोर्ड परीक्षाएं 12 फरवरी से शुरू होंगी.

सूत्रों की माने तो सीबीआई ने कोलकाता पुलिस कमिश्नर के सामने सवालों की लंबी सूचि तैयार की है. इन सवालों में सारदा जांच से जुड़े सबूतों को लेकर कई अहम सवाल हैं. सारदा पर छापेमारी के के दौरान कई अहम दस्तावेज मिले थे, सीबीआई का कहना है कि पुलिस उन सबूतों को छिपा रही है.    

राज्य के तीन शीर्ष पुलिस अधिकारियों के साथ कुमार शुक्रवार को शिलांग पहुंचे. CBI द्वारा गठित दस सदस्यीय टीम चिट फंड मामलों की जांच के संबंध में शीर्ष पुलिस अधिकारी से पूछताछ करेगी. इस बीच तृणमूल नेताओं और समर्थकों ने शुक्रवार को सीजीओ कॉम्प्लेक्स स्थित सीबीआई मुख्यालय के बाहर धरना दिया और केंद्र के खिलाफ नारेबाजी की.

CBI ने कोलकाता के पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार पर सारदा घोटाला के मामले में संभावित अभियुक्त होने और सबूतों को नष्ट करने का आरोप लगाया था. एजेंसी ने पश्चिम बंगाल सरकार के खिलाफ अवमानना करने के आरोप में सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. क्योंकि कुमार ने सहयोग करने से इनकार कर दिया था.

बंगाल सरकार ने कहा था कि कुमार के खिलाफ कोई ठोस कदम नहीं उठाया जा सकता है, सर्वोच्च न्यायालय ने आईपीएस अधिकारी को निष्पक्ष रूप से सीबीआई के समक्ष पूछताछ के लिए ईमानदारी से पेश करने का आदेश दिया. कोर्ट इस मामले की सुनवाई 28 फरवरी को फिर करेगा.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर सीबीआई के दुरुपयोग का आरोप लगाया था. इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि सीईआई कोलकाता पुलिस कमिश्नर को गिरफ्तार नहीं कर सकती. अदालत के फैसले के बाद ममता बनर्जी ने धरना समाप्त हो कर दिया. उन्होंने कहा यह बंगाल के लोगों की जीत है. यह हमारी सेनाओं, हमारे लोकतंत्र और हमारे संविधान की जीत है. '

First published: 9 February 2019, 12:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी