Home » इंडिया » Saudi prince tells Ajit Doval Understand India's actions in J&K
 

कश्मीर पर सऊदी के प्रिंस ने अजित डोभाल से कहा मौजूदा स्थिति से अवगत हैं

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 October 2019, 9:24 IST

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल सऊदी अरब की दो दिवसीय यात्रा पर हैं. इस यात्रा के दौरान डोभाल ने सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान को जम्मू-कश्मीर में स्थिति से अवगत कराया. एक रिपोर्ट के मुताबिक सऊदी पक्ष ने डोभाल से कहा कि वह कश्मीर पर नई दिल्ली की लंबे समय से मौजूद स्थिति से अवगत है. सऊदी ने भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव को कम करने की आवश्यकता पर बल भी दिया.

डोभाल और सलमान ने द्विपक्षीय क्षेत्रीय मुद्दों सहित मिसाइल और सहित सऊदी तेल सुविधाओं पर ड्रोन हमलों को लेकर भी विचार-विमर्श किया. सऊदी अरब भारत की ऊर्जा सुरक्षा का एक प्रमुख स्तंभ है. भारत अपने कच्चे तेल का 17 प्रतिशत या उससे अधिक और एलपीजी आवश्यकताओं का 32 प्रतिशत सऊदी से आयात करता है. 14 सितंबर को अपने तेल सुविधाओं पर सबसे बड़े हमले के बावजूद सऊदी अरब ने भारत को आश्वासन दिया कि वह देश की ऊर्जा सुरक्षा जरूरतों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है. 

कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद पाकिस्तान ने प्रतिक्रिया व्यक्त दी और भारतीय दूत को वापस मानेगा लिया. भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर मुद्दे पर बढ़ते तनाव के बीच सऊदी अरब के विदेश राज्य मंत्री अदेल अल जुबिर और यूएई के विदेश मंत्री शेख अब्दुल्ला बिन जायद अल नाहयान ने पिछले महीने इस्लामाबाद का दौरा किया था. भारत ने जम्मू-कश्मीर पर अपने फैसलों के बारे में प्रमुख देशों को अवगत कराने के लिए एक कूटनीतिक आउटरीच भी शुरू की. सऊदी अरब, जिसे पाकिस्तान का एक प्रमुख सहयोगी माना जाता है, ने आतंकवाद के खिलाफ भारत के साथ अभियान में भाग लिया है.

दोनों देशों ने पहले से ही सुरक्षा के क्षेत्र में कई समझौतों पर हस्ताक्षर किए, जिनमें एक प्रत्यर्पण संधि भी शामिल है. फरवरी में यहां सलमान की यात्रा के दौरान, दोनों देशों ने व्यापक सुरक्षा संवाद का गठन करने और आतंकवाद की चुनौतियों से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए आतंकवाद पर एक संयुक्त कार्यदल गठित करने का निर्णय लिया.

महात्मा गांधी जयंती: जब मॉब लिंचिंग का शिकार होने से बचे थे महात्मा गांधी!

First published: 3 October 2019, 9:15 IST
 
अगली कहानी