Home » इंडिया » SC: examine if Sardar jokes should be banned online
 

सुप्रीम कोर्ट: सिखों पर बने चुटकुलों का कारोबारी इस्तेमाल गलत

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:51 IST

सुप्रीम कोर्ट ने शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी(एसजीपीसी) की अर्जी पर सुनवाई करते हुए कहा है कि हम सिख समुदाय पर चुटकुलों पर रोक लगाने के लिए जल्द ही दिशा-निर्देश जारी करेंगे.

सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश टीएस ठाकुर ने मामले की सुनवाई में कहा कि हम जल्द ही यह तय करेंगे कि कानून के दायरे में किसको कहां तक रोका जा सकता है.

इसके अलावा कोर्ट ने यह भी कहा कि अगर सिखों के उपर बने चुटकुलों का प्रयोग व्यावसायिक फायदे के लिए किया जा रहा है तो हम इस पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा देंगे.

सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में याचिकाकर्ता शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी से सुझाव मांगे हैं कि इस पर रोक कैसे लगाई जा सकती है?

शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करके सिखों के पर बने संता-बंता जैसे चुटकुलों पर रोक लगाने की मांग की है.

सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान एसजीपीसी की ओर से दलील दी गई की इन चुटकुलों के आधार पर लोग सिख समुदाय की ऐसी हास्यास्पद तस्वीर बना ली है, जिससे उन्हें नौकरी में खासी परेशानी होती है.

एसजीपीसी ने अदालत से कहा कि सिख समुदाय के लोगों का नौकरी के इंटरव्यू में दोहरा इम्तहान होता है. उन्हें मजाक का पात्र समझा जाता है. इन चुटकुलों से दूसरे देशों में हमारे समुदाय की छवि भी खराब होती है.

सुप्रीम कोर्ट ने कमेटी की सारी दलीलों को सुनने के बाद मामले की अगली सुनवाई के लिए 5 अप्रैल की तारीख तय की है.

First published: 17 March 2016, 3:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी