Home » इंडिया » SC final verdict on Ayodhya case ram temple and Babari masjid land dispute
 

8 सालों से अटके अयोध्या मामले में होगा फाइनल फैसला, SC में नए जजों की बेंच करेगी सुनवाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 October 2018, 9:29 IST

आज देश के सबसे ज्यादा विवादित और मौजूदा समय में सबसे ज्यादा चर्चित मुद्दे पर देश की सर्वोच्च अदालत में सुनवाई होगी. देश में राम मंदिर और बाबरी मस्जिद मामले में चल रहे विवाद को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के नेतृत्व में तीन जजों की नई बेंच इस मामले की सुनवाई करेगी. आज से पूर्व इस मामले की सुनवाई पूर्व चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, अशोक भूषण और अब्दुल नजीर की बेंच के की थी.

आज से राम मंदिर-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद पर फाइनल काउंटडाउन शुरू हो जाएगा. अयोध्या की विवादित भूमि को तीन भागों में बांटने वाले 2010 के इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ दायर याचिकाओं पर आज देश की सर्वोच्च अदालत में सुनवाई होगी. इस मामले में तीन जजों की बेंच सुनवाई करेगी जिसमें चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के साथ जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस के.एम जोसफ भी शामिल है.

इस मामले में वरिष्ठ वकील जफरयाब जिलानी ने बताया, ''आज सुप्रीम कोर्ट ये तय करेगा कि अयोध्या केस की सुनवाई करने वाली बेंच में कौन होगा और क्या यही बेंच सुनवाई करेगी. इसके अलावा ये सुनवाई की तारीख क्या होगी ये भी आज तय किया जाएगा.''
गौरतलब है की इस मामले में 27 सितंबर 2018 को हुई सुनवाई में कोर्ट ने 'मस्जिद इस्लाम का अनिवार्य अंग नहीं' वाले फैसले के खिलाफ याचिका पर पुनर्विचार से इंकार कर दिया था.

शशि थरूर के बयान पर भड़के गिरीराज सिंह, बोले- ये हिंदुस्तान है अगर पाकिस्तान होता तो....

इलाहाबाद हाई कोर्ट के इस फैसले के खिलाफ है सुनवाई

गौरतलब है कि अयोध्या भूमि विवाद मामले में हाई कोर्ट की तीन सदस्यीय पीठ ने 30 सितंबर, 2010 को 2:1 के बहुमत वाले फैसले में कहा था कि 2.77 एकड़ जमीन को तीनों पक्षों- सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला में बराबर-बराबर बांट दिया जाए. इस फैसले को किसी भी पक्ष ने नहीं माना और उसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई. सुप्रीम कोर्ट ने 9 मई 2011 को इलाहाबाद हाई कोर्ट के इस फैसले पर रोक लगा दी थी.

बता दें कि ये केस पिछले 8 सालों से सुप्रीम कोर्ट में है. 2019 में होने वाले चुनावों के मद्देनजर एक बार फिर से इस मामले ने तूल पकड़ लिया है. ऐसे में आज से शुरू हो रही सुनवाई को इस मामले में फाइनल काउंटडाउन की तरह देखा जा रहा है.

First published: 29 October 2018, 8:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी