Home » इंडिया » SC: Go to the High court Kanhaiya kumar matter
 

जेएनयू विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने कन्हैया की जमानत पर सुनवाई से इनकार किया

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 February 2016, 12:11 IST

सुप्रीम कोर्ट ने कन्हैया कुमार के देशद्रोह के मामले जमानत की अर्जी पर सुनवाई से मना कर दिया है.

सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई करते हुए पीठ के जज जे चेलमेश्वर और जज एएम सप्रे ने वकील राजू रामचंद्रन से पूछा कि आप सीधे हमारे पास क्यों चले आए? आपको पहले सेशन कोर्ट और हाईकोर्ट जाना चाहिए था. पूरी प्रक्रिया का पालन करते हुए सुप्रीम कोर्ट में आना चाहिए था.

इस पर वकील राजू रामचंद्रन ने अपनी दलील में कहा कि यह मामला संवैधानिक संकट का हो गया है, पटियाला हाउस कोर्ट में ऐसी स्थिति नहीं रह गई है कि वहां सुनवाई हो सके. इस वजह से हमें आपके पास आना पड़ा.

इस पर पीठ ने कहा कि अगर आपको और आपके मुवक्किल को सुरक्षा दी जाए तो क्या आप दूसरी कोर्ट में जा सकते हैं? हम इस मामले में जमानत नहीं दे सकते हैं क्योंकि इससे एक नई परिपाटी शुरू हो सकती है और इस तरह के मामले बढ़ सकते हैं. आप इस मामले को लेकर निचली अदालत में जाएं. आप चाहे तो हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटा सकते हैं.

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट में कन्हैया कुमार की ओर से अधिवक्ता वृंदा ग्रोवर ने याचिका दाखिल करके कोर्ट को बताया था कि पटियाला हाउस कोर्ट परिसर में वकीलों के एक समूह ने कन्हैया पर जानलेवा हमला किया था. पटियाला हाउस कोर्ट में कन्हैया कुमार की जान को खतरा है. इसलिए वहां जमानत याचिका पेश करना उचित नहीं है. अतः मैं कन्हैया कुमार की ओर से संविधान के अनुच्छेद 32 के तहत सुप्रीम कोर्ट के समक्ष जमानत के लिए अर्जी दे रही हूं.

अनुच्छेद 32 के तहत देश का कोई भी नागरिक अपने मौलिक अधिकार की सुरक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट में सीधे अर्जी दाखिल कर सकता है. इसके बाद वरिष्ठ वकील सोली सोराबजी और राजू रामचंद्रन ने सुप्रीम कोर्ट के जज जे चेलमेश्वर और न्यायमूर्ति एएम सप्रे की पीठ के सामने कन्हैया की जमानत अर्जी का मामला उठाया था. जिसे कोर्ट ने स्वीकार कर लिया था. 

इससे पहले दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार को 2 मार्च तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया था.

एफआईआर रिपोर्ट

fir

गौरतलब है कि जेएनयू परिसर में नौ फरवरी को अफजल गुरु की फांसी की तीसरी बरसी पर डीएसयू के छात्र नेता उमर खालिद की अगुवाई में एक कार्यक्रम में राष्ट्रविरोधी नारे लगाने के बाद वसंत कुंज थाने में एफआईआर दर्ज की गई थी. जिसके बाद छात्र नेता कन्हैया को देशद्रोह के आरोप में बीती 12 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था.

First published: 19 February 2016, 12:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी