Home » इंडिया » SC refuses to entertain a plea for stopping World Culture Festival
 

एनजीटी की दो-टूक: कहा 4 बजे तक न मिले 5 करोड़ तो कार्यक्रम रद्द

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 March 2016, 15:57 IST

श्री श्री रविशंकर की संस्था आर्ट ऑफ लिविंग को तगड़ा झटका देते हुए एनजीटी ने दो टूक शब्दों में कहा है कि शाम 4 बजे तक 5 करोड़ रुपये का जुर्माना दें, वरना इस कार्यक्रम को रद्द कर दें.

एनजीटी ने इस मामले में डीडीए के वकील को स्पष्ट निर्देश दिया है कि अगर आर्ट ऑफ लिविंग संस्था शाम चार बजे तक 5 करोड़ रुपये हर्जाना नहीं भरती है तो डीडीए कार्यक्रम के लिए दी गई इजाजत वापस ले ले.

पढ़ें: जुर्माना नहीं दूंगा, जेल भले चला जाऊं: श्री श्री रविशंकर

इसके साथ ही एनजीटी ने डीडीए के वकील से यह भी कहा कि आप शाम 4 बजे तक हमें सूचित करे कि 5 करोड़ रुपये जुर्माने को आर्ट ऑफ लिविंग ने भरा या नहीं.

दूसरी तरफ आर्ट ऑफ लिविंग के प्रमुख श्री श्री रविशंकर ने इससे पहले कहा था कि वह केवल तीन लोगों की रिपोर्ट को कैसे मान लें, जो कार्यक्रम स्थल पर केवल आधे घंटे के लिए गए. श्री श्री ने कहा कि निरीक्षण करने वालों को यह तो बताना चाहिए कि आयोजन स्थल पर नुकसान क्या-क्या हुआ है.

वहीं इस मामले में आज सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करने से इनकार कर दिया है. आर्ट ऑफ लिविंग को कोर्ट ने एनजीटी के पास वापस जाने के लिए कहा.

कोर्ट ने कहा कि एक महीने से कहां थे आप? आपको पहले आना चाहिए था. एनजीटी ने जो निर्देश दिया है, आप उसी पर चलें.

इसके बाद आर्ट ऑफ लिविंग के प्रवक्ता ने कहा है कि हमने एनजीटी के द्वारा लगाए गए जुर्माने को नहीं भरने की बात कभी नहीं कही थी. हम सुप्रीम कोर्ट का सम्मान करते हैं और कोर्ट ने जो भी आदेश दिया है संस्था उसका पालन करेगी.

First published: 10 March 2016, 15:57 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी