Home » इंडिया » SC says state governments are bound to give compensation to the victims in cow vigilantism
 

सुप्रीम कोर्ट का यह आदेश सुनकर गौरक्षकों को पसीना आ जाएगा

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 September 2017, 18:02 IST

सर्वोच्च न्यायालय ने शुक्रवार को कहा कि राज्य गौरक्षक समूहों की ज्यादतियों का शिकार हुए पीड़ितों को मुआवजा देने के लिए बाध्य हैं. सर्वोच्च अदालत नेगौरक्षक समूहों द्वारा की जाने वाली हिंसा को रोकने के लिए एक नोडल अधिकारी की नियुक्ति करने के आदेश के अनुपालन में सभी राज्यों को रिपोर्ट दाखिल करने के निर्देश दिए.

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अगुवाई वाली पीठ ने कहा, "पीड़ितों को मुआवजा मिलना चाहिए. पीड़ितों को मुआवजा देना राज्यों के लिए अनिवार्य है." पीठ ने कहा कि आपराधिक प्रक्रिया संहिता के तहत राज्य पीड़ितों को मुआवजा देने की योजना बनाने के लिए बाध्य हैं और अगर उन्होंने ऐसी कोई योजना नहीं बनाई है तो जरूर बनाएं.

इस संबंध में एक याचिकाकर्ता की ओर से अदालत में पेश वरिष्ठ अधिवक्ता इंदिरा जयसिंह ने सर्वोच्च अदालत से गौरक्षकों की हिंसा के शिकार लोगों को मुआवजा दिए जाने का आग्रह किया. जयसिंह ने कहा कि इस तरह के अपराध को रोकने के लिए राष्ट्रीय नीति होनी चाहिए.

इन याचिकाकर्ताओं में से एक की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने भी अदालत को बताया कि गौरक्षा के नाम पर अपराधी ने जमानत पर रिहा होने के दौरान पीड़ित के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई गई और उसका उत्पीड़न किया गया.

First published: 22 September 2017, 18:02 IST
 
अगली कहानी