Home » इंडिया » SC/ST Act: Ramdas Athawale demands AK Goel remove as NGT Chief
 

SC/ST एक्ट को लेकर PM मोदी के खिलाफ बगावत पर उतरे रामदास अठावले

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 July 2018, 12:02 IST

अनुसूचित जाति एवं जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम(एससी-एसटी एक्ट) में से गैर जमानती अपराध का प्रावधान हटाने वाले न्यायाधीश एके गोयल को राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण (एनजीटी) का अध्यक्ष पद देने को लेकर मोदी सरकार से एनडीए की सहयोगी पार्टियां बगावत पर उतर आई हैं. अब इस मुद्दे पर केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्यमंत्री रामदास अठावले ने मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. उनका कहना है कि गोयल ने एससी/एसटी एक्ट को लेकर गलत फैसला दिया है.

अठावले ने कहा कि जस्टिस गोयल को एनजीटी का अध्यक्ष बनाया जाना सही नहीं है. मैं एनडीए का हिस्सा हूं और मांग करता हूं कि गोयल को अध्यक्ष पोस्ट से हटाया जाए. उन्होंने दलितों की भावनाओं आहत किया है. 

पढ़ें- SC/ST एक्ट: चिराग पासवान ने पीएम मोदी को दी 9 अगस्त से देशव्यापी आंदोलन की दी धमकी

बता दें कि दो दिन पहले ही केंद्र की मोदी सरकार में सहयोगी लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष राम विलास पासवान के बेटे चिराग पासवान ने एससी-एसटी एक्ट को लेकर मोदी सरकार को धमकी दी थी. चिराग ने मोदी सरकार को अल्टीमेटम देते हुए कहा था कि अगर मोदी सरकार हमारी मांग 9 अगस्त तक नहीं मानती है तो एलजेपी (लोजपा) की दलित सेना दूसरे दलित संगठनों के साथ सरकार के खिलाफ आंदोलन में हिस्सा ले सकती है.

पढ़ें- BJP सांसद- मुसलमानों की बढ़ती आबादी लिंचिंग, रेप और आतंकवाद के लिए है जिम्मेदार

चिराग ने सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश एके गोयल की राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) में अध्यक्ष के तौर पर नियुक्ति पर सवाल उठाए थे. चिराग ने कहा कि जस्टिस आदर्श कुमार गोयल ने एससी/एसटी एक्ट को कमजोर किया है और सरकार ने उनको ही रिवार्ड देते हुए एनजीटी का चेयरमैन बना दिया.

गौरतलब है कि मार्च महीने की 20 तारीख को सुप्रीम कोर्ट के बेंच की अध्यक्षता करते हुए जस्टिस गोयल ने एससी/एसटी एक्ट के तहत दायर केस में तुरंत आरोपी की गिरफ्तारी से रोक लगा दिया था. उन्होंने जांच के बाद कोई भी कदम उठाने की बात कही थी. उनके इस फैसले का कई पार्टियों के नेताओं और दलित संगठनों ने विरोध किया था. जिसके खिलाफ दलित संगठनों ने भारी विरोध प्रदर्शन किया था. जिसमें 11 लोगों की मौत हो गई थी. 

वहीं मोदी सरकार ने जस्टिस गोयल को 6 जुलाई को अगले पांच सालों के लिए एनजीटी का अध्यक्ष नियुक्त कर दिया है.

First published: 29 July 2018, 12:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी