Home » इंडिया » School children collected Rs 20 lakh for drought hit areas
 

सूखा पीड़ितों पर स्कूली बच्चों का मरहम

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 April 2016, 23:02 IST

महाराष्ट्र का मराठवाड़ा इलाका सूखे की मार झेल रहा है. बूंद-बूंद पानी को इलाके के लोग तरस गए हैं. वहीं मुंबई के स्कूली बच्चों ने अब सूखा पीड़ितों की ओर मदद का हाथ बढ़ाया है. बच्चों ने राहत राशि के तौर पर 20 लाख रुपये इकट्ठा किए हैं. 

कैथेड्रल एंड जॉन कॉनन स्कूल की प्रिंसिपल मीरा इसाक्स का कहना है कि स्कूल के पूर्व छात्र की डॉक्यूमेंट्री से बच्चों को भयावह हालात का पता चला. स्कूल का ये पूर्व छात्र अब मीडियाकर्मी है.

उसने अपने प्रजेंटेशन में मराठवाड़ा की तल्ख सच्चाई दिखाई. जिसके बाद बच्चों को मदद की प्रेरणा मिली. 
सूखे खेत और अपने से भी छोटे बच्चों की दुर्दशा देखकर बच्चे विचलित हो गए.

जिसके बाद उन्होंने मदद के लिए पैसा इकट्ठा करने का फैसला लिया. इसके लिए बच्चों ने खेल और दूसरे मद के पैसे जुटा डाले. यही नहीं बच्चों ने टी शर्ट बेचकर भी राहत के लिए पैसा इकट्ठा किया. 

स्कूल की प्रिंसिपल का कहना है कि एक्टर नाना पाटेकर और मकरंद अनसपुरे के नाम फाउंडेशन को 15 लाख रुपये सौंप दिए गए हैं. वहीं स्कूल की ओर से भी पांच लाख रुपये की मदद दी गई है जिसका इस्तेमाल सूखा प्रभावित इलाकों के बच्चों की पढ़ाई में किया जाएगा.

पहले भी मदद की मुहिम चला चुका है स्कूल

जब प्रिंसिपल से पूछा गया कि सूखा पीड़ितों की मदद का ये नेक विचार कैसे आया तो उन्होंने बताया कि स्कूल के चेयरमैन को प्रभावित इलाके में एक महिला की खुदकुशी का पता चला था.

इसके बाद मदद के लिए मुहिम चलाने का फैसला लिया गया. स्कूल ने पहले भी समाजसेवा के क्षेत्र में मिसाल कायम की है. उत्तराखंड आपदा के दौरान स्कूल के बच्चों ने 45 लाख रुपये इकट्ठा किए थे.

वहीं कश्मीर में बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए 22 लाख रुपये का फंड इकट्ठा हुआ था. जाहिर है बच्चों की कोशिश सूखा पीड़ितों की उम्मीद जगाने वाली है. क्योंकि बूंद-बूंद से ही घड़ा भरता है. इसी तरह के प्रयासों की और जरूरत है.

First published: 11 April 2016, 23:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी