Home » इंडिया » Catch Hindi: scientists found new big planet with two orbiting suns
 

वैज्ञानिकों को मिला धरती जितना पुराना दो सूर्यों वाला नया विशाल ग्रह

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 June 2016, 13:20 IST

वैज्ञानिकों ने हमारे सौर मण्डल से बाहर अब तक के सबसे बड़े ग्रह की खोज की है. इस ग्रह के दो सूर्य हैं. सोमवार को इसकी घोषणा करते हुए वैज्ञानिकों ने कहा कि इस नए ग्रह पर जीवन की संभावना हो सकती है.

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के वैज्ञानिकों ने ये खोज केप्लर स्पेस टेलीस्कोप की मदद से की है. नासा ने ये जानकारी अमेरिकन एस्ट्रोनॉमिकल सोसाइटी की कैलिफोर्निया के सैन डिएगो में हुई बैठक में दी. 

इस नए ग्रह का नाम केप्लर-1647बी रखा गया है. ये ग्रह आकार में बृहस्पति ग्रह के बराबर है. इसके दो सूर्य हैं जिनकी परिक्रमा करने में इसे 1107 दिन (करीब तीन साल) लगते हैं. साल 2005 के बाद खोजा जाने वाला ये 11वां ग्रह है.

सेंट डिएगो यूनिवर्सिटी की तरफ जारी बयान के अनुसार केप्लर-1647बी अपने दोनों सूर्य से इतने दूरी पर है कि इसपर 'जीवन की संभावना हो सकती है.'

सैद्धांतिक रूप से ये ग्रह मानवीय बसावट के लिए न तो बहुत ज्यादा ठंडा है, न ही बहुत ज्यादा गर्म. संभव है कि इस ग्रह पर पानी तरल रूप में मौजूद हो.

लेकिन बृहस्पति ग्रह की तरह केप्लर-1647बी भी गैसीय ग्रह है. इसलिए इस पर जीवन की संभावना क्षीण भी हो सकती है. लेकिन इस ग्रह की परिक्रमा करने वाले किसी चंद्रमा पर जीवन की संभावना हो सकती है.

नासा ने अपने बयान में बताया कि केप्लर-1647बी की उम्र करीब 4.4 अरब साल है. यानी ये धरती जितना ही पुराना है. इसके तारे भी धरती के सूर्य के समान ही हैं. इसका एक तारा हमारे सूर्य से थोड़ा बड़ा है और दूसरा थोड़ा छोटा.

दो तारों की परिक्रमा करने वाले ग्रह को 'टैटूईन' भी कहते हैं. साइंस फंतासी फिल्म स्टार वार्स में इस तरह के काल्पनिक ग्रह का चित्रण किया गया है. 

First published: 14 June 2016, 13:20 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी