Home » इंडिया » Scribes were attacked during BHU protest, Yogi seeks report
 

बीएचयू कांड में पत्रकार भी जमकर पिटे, योगी ने रिपोर्ट की तलब

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 September 2017, 14:06 IST

एक तरफ बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में शनिवार रात हुए लाठीचार्ज मामले में ज़िले के ज़िम्मेदार अधिकारियों पर कार्रवाई हुई है, वहीं, इस दौरान पत्रकारों पर हुए हमले को लेकर भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी के कमिश्नर से पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी है.

फिलहाल एहतियात के तौर पर बीएचयू के अलावा काशी विद्यापीठ और संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय समेत जिले के सभी डिग्री कलेजों को भी दो अक्टूबर तक बंद कर दिया गया है. पुलिस अफसरों पर यह कार्रवाई बीएचयू में शनिवार रात को छात्र-छात्राओं पर हुए लाठीचार्ज करने के कारण हुई है.

बीएचयू स्थित लंका इलाके के एसओ को लाइन हाजिर कर दिया गया है. उनकी जगह जैतपुरा के एसओ संजीव मिश्रा को लंका इलाके का नया एसओ बनाया गया हैं. चूंकि लंका थाना भेलूपुर सर्किल में आता है. भेलूपुर के सर्किल ऑफिसर निवेश कटियार पर कार्रवाई की गई है. निवेश कटियार को भी उनके पद से हटा दिया है. इसी तरह वाराणसी के अपर नगर मजिस्ट्रेट सुशील कुमार गोंड का कार्यभार भी बदल दिया गया है.

लाठीचार्ज की सूचना पाकर कवरेज के लिए बीएचयू पहुंचे पत्रकारों को भी पुलिस ने नहीं बख्शा और उनकी जमकर पिटाई की. पिटाई के बाद घायल पत्रकारों को पुलिस कर्मियों ने बीएचयू के ट्रॉमा सेंटर में भी इलाज कराने के लिए भी नहीं जाने दिया.

इस मामले को लेकर रविवार को लखनऊ में पत्रकारों ने मुख्यमंत्री के आवास का घेराव किया, जिसके बाद मुख्यमंत्री ने अपने ट्विटर हैंडिल के जरिए सूचना दी कि पत्रकारों पर हुए हमले की रिपोर्ट वाराणसी के कमिश्नर से मांगी गई है.

इस बीच प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार भी लगातार वाराणसी के कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण और एडीजी (वाराणासी) विश्वजीत महापात्रा के संपर्क में हैं. एडीजी कानून व्यवस्था आनंद कुमार ने बताया कि इस पूरे मामले में मुख्यमंत्री ने कमिश्नर से रिपोर्ट मांगी है. रिपोर्ट आने के बाद दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

इधर, बीएचयू मामले पर राजनीति गरमाती जा रही है. पूर्व मुख्यमंत्री व समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि बल से नहीं बातचीत से सरकार को मामले का हल निकालना चाहिये. बीएचयू में छात्रों पर लाठीचार्ज निंदनीय है. दोषियों पर कार्रवाई होनी चाहिए.

इस मामले को लेकर समाजवादी पार्टी ने आठ सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल को वाराणसी भेजने का फैसला किया है. समाजवादी पार्टी का यह प्रतिनिधिमंडल आज वाराणसी पहुंचेगा.

First published: 25 September 2017, 14:06 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी