Home » इंडिया » Section 144 imposed in Dhar after Bhojshala dispute
 

भोजशाला में उपजे तनाव को देखते हुए प्रशासन ने लगाई धारा 144

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:51 IST

धार में भोजशाला विवाद के मामले में मध्य प्रदेश हाईकोर्ट की इंदौर खंडपीठ ने मंगलवार को अपने आदेश में पुलिस और जिला प्रशासन को कहा है कि वह भोजशाला के साथ पूरे धार जिले में बसंत पंचमी के दिन सुरक्षा के कड़े इंतजाम करें. वहीं कोर्ट ने इस मामले में केंद्र और राज्य सरकार के साथ-साथ पुरातत्व विभाग को नोटिस भी जारी किया है. 

कोर्ट ने मामले में पुरातत्व विभाग की सलाह को देखते हुए हिंदूओं के लिए बसंतपंचमी के दिन पूजा का समय सूर्योदय से दोपहर 12 बजे तक के लिए निर्धारित किया है. उसके बाद दोपहर 1 बजे से लेकर 3 बजे तक का समय मुस्लिमों के नमाज के लिए तय किया है.

इस मामले में धार के लोगो ने कोर्ट में एक याचिका दायर करके कहा था कि भोजशाला में हिंदू और मुस्लिम धर्म के 100-100 लोगों को अलग-अलग समय पर पूजा और नमाज की अनुमति देने से विवाद की स्थिति टाली जा सकती है. लेकिन कोर्ट ने पुरातत्व विभाग की सलाह को अहमियत देते हुए अपना फैसला सुनाया.   

हाईकोर्ट के इस आदेश के बाद जिला प्रशासन ने इस ममाले में एहतियाती कदम उठाते हुए जिले में धारा 144 लगा दी है.

खबरों के मुताबिक जिले में स्थिति बेहद ही तनावपूर्ण है, लेकिन जिला प्रशासन इस मामले में पूरी तरह से मुस्तैद है.

इस विवादित मामले में मध्यप्रदेश के गृह मंत्री बाबूलाल गौर ने सोमवार को अपने बयान में कहा था कि धार जिले के विवादास्पद स्मारक भोजशाला में 12 फरवरी को बसंत पंचमी के मौके पर नियमों के मुताबिक पूजा और इबादत की इजाजत दी जायेगी.

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए बाबूलाल गौर ने कहा कि 'भोजशाला के मामले में सरकारी नियमानुसार कदम उठाये जायेंगे. वहां बसंत पंचमी पर नियमों के मुताबिक पूजा और इबादत की अनुमति दी जायेगी.'

भोजशाला भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के संरक्षण में है. इस विवाद की वजह यह है कि हिंदू समुदाय का मानना है कि इस प्राचीन स्थान पर वाग्देवी (सरस्वती) का मंदिर है, जबकि मुस्लिम समुदाय इसके इबादतगाह होने का दावा करता है.

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने इस मामले में शुरु से ही यह व्यवस्था बना रखी थी की सप्ताह के प्रत्येक मंगलवार को हिंदुओं को भोजशाला में पूजा करने की इजाजत थी, जबकि मुस्लिमों को हर शुक्रवार को जुम्मे के दिन यहां नमाज अदायगी की इजाजत दी थी. लेकिन इस बार यह संयोग है कि 12 फरवरी दिन शुक्रवार को बसंत पंचमी पड़ रही है.

इसके पूर्व भी बसंत पंचमी जब-जब शुक्रवार को पड़ी है तो धार शहर में दोनों समुदायों के बीच तनाव होता रहा है.

First published: 10 February 2016, 10:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी