Home » इंडिया » Security heightened in Ayodhya ahead of the verdict in Ram Mandir Babri Masjid dispute
 

अयोध्या केस: पूरे देश में कड़ी हुई सुरक्षा व्यवस्था, हेलीकॉप्टर से रखी जा रही नजर

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 November 2019, 8:57 IST

अयोध्या में राम मंदिर बनेगा या बाबरी मस्जिद रहेगी, इस मुद्दे पर आज सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला आने वाला है. इससे पहले अयोध्या समेत पूरे देश में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है. स्कूलों की छुट्टियां कर दी गई हैं. देश के कई इलाकों में धारा 144 लगा दी गई है. उत्तर प्रदेश में हेलीकॉप्टर से नजर रखी जा रही है.

सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच जजों की संविधान पीठ आज इस बहुप्रतीक्षित मामले में अपना फैसला सुनाएगी. इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट में 40 दिन तक मैराथन सुनवाई चली थी. इस दौरान हिंदू और मुस्लिम पक्ष की दलीलें सुनने के बाद संविधान पीठ ने 16 अक्तूबर को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था.

उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने फैसले से पहले बताया कि हमने धार्मिक नेताओं और नागरिकों के साथ राज्य भर में लगभग 10,000 बैठकें की हैं. राज्य के लोगों से हम सोशल मीडिया पर अफवाह नहीं फैलाने की अपील कर रहे हैं. 

यूपी डीजीपी ने बताया कि सुरक्षा के मद्देनजर अयोध्या में अर्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है. उन्होंने बताया कि यूपी में हवाई निगरानी की जा रही है. खुफिया तंत्र को तैयार किया गया है. ऑपरेशनों पर नजर रखने के लिए अयोध्या में एक एडीजी रैंक के अधिकारी को तैनात किया गया है.

अयोध्या विवाद की सुनवाई करने वाली संवैधानिक पीठ में पांच जज शामिल हैं. इसमें सीजेआई रंजन गोगोई के अलावा जस्टिस शरद अरविंद बोबडे, जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस एस अब्दुल नजीर शामिल हैं. फैसले के एक दिन पहले सीजेआई रंजन गोगोई ने उत्तर प्रदेश मुख्य सचिव राजेंद्र तिवारी और डीजीपी ओपी सिंह से मुलाकात की थी.

First published: 9 November 2019, 8:44 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी