Home » इंडिया » Serum Institute of India departs from Pune for nationwide first consignment of Corona vaccine
 

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने पुणे से देशभर के लिए रवाना की कोरोना टीके की पहली खेप

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 January 2021, 9:20 IST

Coronavirus vaccine: भारत में कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई का एक निर्णायक चरण मंगलवार को सुबह से शुरू हुआ, क्योंकि कोविशिल्ड टीकों की पहली खेप देशव्यापी टीकाकरण अभियान के शुभारंभ से चार दिन पहले पुणे हवाई अड्डे के लिए सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया से रवाना हो गई है. इन कोरोना टीकों को तीन ट्रकों को सुबह 5 बजे से पहले सीरम इंस्टीट्यूट के गेट से पुणे हवाई अड्डे के लिए रवाना किया गया. ट्रक में टीकों के 478 बक्से थे, प्रत्येक बॉक्स का वजन 32 किलोग्राम था. हवाई अड्डे से टीकों को सुबह 10 बजे तक देश भर में 13 स्थानों पर भेजा जाएगा. जिन स्थानों पर ये कोविल्ड टीके पुणे से लाए जाएंगे उनमें दिल्ली, अहमदाबाद, कोलकाता, चेन्नई, बेंगलुरु, करनाल, हैदराबाद, विजयवाड़ा, गुवाहाटी, लखनऊ, चंडीगढ़ और भुवनेश्वर शामिल हैं.

आठ वाणिज्यिक उड़ानों में पुणे से टीके ले जाये जाएंगे.  उन्होंने कहा कि पहली कार्गो उड़ान हैदराबाद, विजयवाड़ा और भुवनेश्वर को कवर करेगी और दूसरी कार्गो उड़ान कोलकाता और गुवाहाटी जाएगी. मुंबई के लिए खेप सड़क मार्ग से जाएगी. कूल-एक्स कोल्ड चेन लिमिटेड से संबंधित ट्रकों का इस्तेमाल सीरम इंस्टीट्यूट से वैक्सीन स्टॉक को फेयर करने के लिए किया जा रहा है. पहले बैच में एक खेप को अहमदाबाद में एयर इंडिया कार्गो की फ्लाइट से भेजना है. सोमवार को गुजरात के उप-मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने ट्वीट किया कि उनका राज्य मंगलवार को सुबह 10.45 बजे अहमदाबाद के सरदार वल्लभभाई पटेल हवाई अड्डे पर कोरोनावायरस वैक्सीन की पहली खेप प्राप्त करेगा. 


सोमवार को प्रधानमंत्री मोदी सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बातचीत करते हुए कहा ''हमारा देश कोरोना के खिलाफ लड़ाई में एक निर्णायक चरण में प्रवेश कर रहा है. ये चरण है वैक्सीनेशन का. 16 जनवरी से हम दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान शुरू कर रहे हैं. पीएम न कहा हमारी कोशिश सबसे पहले उन लोगों तक कोरोना वैक्सीन पहुंचाने की है, जो देशवासियों की स्वास्थ्य सेवाओं में लगे हुए हैं. इसके साथ-साथ जो दूसरे फ्रंट लाइन वर्कर्स हैं उन्हें भी पहले चरणों में टीका लगाया जाएगा''.

उन्होंने कहा ''अलग-अलग राज्यों के फ्रंटलाइन वर्कर्स और हेल्थ वर्कर्स की संख्या देखें तो यह करीब 3 करोड़ होती है. यह तय किया गया है कि पहले चरण में इन 3 करोड़ लोगों को वैक्सीन देने में जो खर्च होगा उसे राज्य सरकारों को नहीं देना, उसे भारत सरकार वहन करेगी''. मोदी ने कहा ''दूसरे चरण में 50 वर्ष से ज्यादा आयु के सभी लोगों को और 50 वर्ष से कम आयु के उन बीमार लोगों को जिन्हें संक्रमण का सबसे ज्यादा खतरा है, उन्हें टीका लगाया जाएगा''.

16 जनवरी से देशभर में टीकाकरण शुरू होगा. मध्यप्रदेश के सीएम ने कहा ''हम 16 जनवरी से प्रदेश में कोरोना वैक्सीन लगाने की शुरुआत कर रहे हैं. सबसे पहले कोरोना वॉरियर्स, स्वास्थ्य से जुड़े लोग जिनकी संख्या 4,16,000 है उन्हें वैक्सीन लगाई जाएगी. बाद में पुलिस, सफाईक्रर्मी समेत अन्य फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन लगाई जाएगी.

Coronavirus vaccine : सरकार चाहती है सीरम इंस्टीट्यूट कम करे अपने टीके की कीमत: रिपोर्ट

First published: 12 January 2021, 9:00 IST
 
अगली कहानी