Home » इंडिया » Sexual harassment allegations: Was offered ₹1.5 crore to frame CJI, says Supreme Court lawyer
 

वकील का दावा : CJI को झूठे केस में फंसाने के लिए ऑफर किये थे 1.5 करोड़

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 April 2019, 9:25 IST

भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के खिलाफ यौन उत्पीड़न का झूठा मामला पेश करने के लिए सोमवार को एक वकील ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है. जिसमें दावा किया गया कि उन्हें 'अजय' नाम के एक व्यक्ति ने सीजेआई के खिलाफ झूठा केस बनाने के लिए 1.5 करोड़ तक की पेशकश की गई थी.

सुप्रीम कोर्ट के वकील उत्सव बैंस ने कहा मुख्य न्यायाधीश गोगोई पर आरोप लगाने वाले पूर्व कर्मचारी की ओर से व्यक्ति ने उन्हें प्रेस क्लब ऑफ इंडिया में CJI पर आरोप लगाने के लिए एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की व्यवस्था करने के लिए कहा था. एक रिपोर्ट के अनुसार बैंस ने कहा कि उन्होंने उस व्यक्ति के प्रस्ताव को ठुकरा दिया था, जो यह पूछने पर जवाब नहीं दे पाया कि वह महिला से कैसे संबंधित था. उन्होंने कहा कि CJI को इस्तीफा देने के लिए मजबूर करने के लिए एक बड़ा षड्यंत्र ’चल रहा था.

 

उन्होंने कहा कि न्यायपालिका की स्वतंत्रता को प्रभावित करने के लिए कथित साजिश में एक न्यायिक जांच की आवश्यकता है. वकील ने कहा एक 'विश्वसनीय व्यक्ति' ने नाम न छापने की शर्त पर उसे बताया कि एक 'कॉरपोरेट फिगर' ने CJI के साथ हाई-प्रोफाइल मामले में अनुकूल आदेश प्राप्त करने की कोशिश की और वह असफल हो गया." बैंस ने कहा कि मामले को स्थानांतरित करने का असफल प्रयास किया गया.

इससे पहले एक महिला ने सीजेआई रंजन गोगोई पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था और सुप्रीम कोर्ट के 22 जजों को पत्र लिखा था. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर सीजीआई की उपस्थिति में सुनवाई की गई थी. सीजेआई ने इन आरोपों के पीछे साजिश बताया था और कहा था कि यह स्वतंत्र न्यायपालिका को कमजोर करने की कोशिश है. कुछ न्यूज़ वेबसाइट ने खबर प्रकशित की थी कि महिला सुप्रीम कोर्ट की पूर्व कर्मचारी थी.

मुलायम का आखिरी और अमित शाह का पहला लोकसभा चुनाव

First published: 23 April 2019, 9:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी