Home » इंडिया » Sexual Harassment case: Police reinstate husband, kin of CJI complainant
 

CJI पर आरोप लगाने वाली महिला के पति की हेड कांस्टेबल के रुप में बहाली

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 June 2019, 11:14 IST

भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाने वाली महिला के पति और देवर को निलंबित किए जाने के चार महीने बाद दिल्ली पुलिस में हेड कांस्टेबल के रूप में बहाल कर दिया गया है. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (दिल्ली सशस्त्र पुलिस) ने बताया कि निलंबन आदेश रद्द कर दिया गया है.

पिछले सप्ताह दोनों को बहाल कर दिया गया है, लेकिन उनके खिलाफ विभागीय जांच अभी भी लंबित है. एक हलफनामे में महिला ने आरोप लगाया था कि सुप्रीम कोर्ट के कर्मचारी के रूप में उसकी समाप्ति के बाद दोनों को निलंबित कर दिया गया था. 19 अप्रैल की अपनी 28 पन्नों की शिकायत में, महिला ने आरोप लगाया कि 10 अक्टूबर और 11 अक्टूबर 2018 को CJI ने अपने निवास कार्यालय में यौन शोषण किया, जहां वह तैनात थी, और उसे अनुचित तरीके से छुआ.

महिला ने दावा किया कि कथित घटना के बाद उसे कई बार स्थानांतरित किया गया था और 21 दिसंबर 2018 को उसकी पोस्टिंग को बदलने के बारे में वरिष्ठ अधिकारियों के फैसलों पर सवाल उठाने और बिना छुट्टी लेने के लिए उसके खिलाफ शुरू की गई जांच के सिलसिले में उसे सेवा से निलंबित कर दिया गया था.

महिला के आरोपों के जवाब में, CJI गोगोई ने कहा था: "यह अविश्वसनीय है. इसके पीछे बड़ी ताकतें है. " क्राइम ब्रांच के एक अधिकारी ने पहले बताया था कि महिला के पति और देवर को विभागीय पूछताछ का सामना करना पड़ रहा था. क्राइम ब्रांच अधिकारी ने कहा था कि दोनों के खिलाफ एक संयुक्त जांच का आदेश दिया गया था और उन्हें 28 दिसंबर, 2018 को निलंबित कर दिया गया था.

सर्वे में हुआ बड़ा खुलासा: भारत पुलिसकर्मियों के मामले में सबसे कमजोर देशों में शामिल

First published: 20 June 2019, 11:06 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी