Home » इंडिया » Shaheen Bagh protesters not afraid of Coronavirus, response to Delhi government's order
 

शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को कोरोना का डर नहीं, दिल्ली सरकार के आदेश पर दी ये प्रतिक्रिया

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 March 2020, 12:09 IST

कोरोना वायरस (Coronavirus) के प्रसार को रोकने के लिए सार्वजनिक समारोहों से बचने की सलाह के बावजूद नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) के खिलाफ शाहीनबाग में लगभग 90 दिनों से आंदोलन कर रहे प्रदर्शनकारियों का कहना है कि वे अपना प्रदर्शन को जारी रखेंगे. जबकि शुक्रवार को दिल्ली सरकार ने 200 से अधिक लोगों एक जगह पर जमा नहीं होने का का आग्रह किया है. दिल्ली सरकार ने कोरोना वायरस के कारण दिल्ली में इंडियन प्रेमियर लीग (IPL) का कोई भी मैच करने से भी इंकार कर दिया है.

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शुक्रवार को लोगों को सार्वजनिक समारोहों से बचने के लिए कहा है. यह पूछे जाने पर कि क्या आदेश शाहीन बाग में चल रहे विरोध पर लागू होगा, उन्होंने कहा "(प्रदर्शनकारियों को हटाना) यह केंद्र सरकार को करना होगा." सिसोदिया ने कहा “कल हमने 31 मार्च तक सभी सिनेमा हॉल, स्कूलों और कॉलेजों को बंद करने का आदेश जारी किया है''.

उन्होंने कहा ''एक अन्य आदेश में हमने 200 लोगों या अधिक लोगों के किसी भी सभा, सेमिनार और सम्मेलनों पर प्रतिबंध लगा दिया है. इससे परे यदि लोग अभी भी बड़ी संख्या में मिल रहे हैं, तो हम उनसे केवल ऐसा नहीं करने की अपील कर सकते हैं''.

यह जीवित रहने की हमारी लड़ाई है

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार शाहीनबाग प्रोटेस्ट के मीडिया समन्वयक काज़ी इमाद ने सरकार की सलाह पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा “हम सिनेमा हॉल और आईपीएल जैसे आयोजनों में सरकार द्वारा लगाए गए प्रतिबंध का सम्मान करते हैं. लेकिन वे मनोरंजन का एक रूप हैं जबकि हमारा आंदोलन जीवित रहने की हमारी लड़ाई है. उससे इसकी तुलना नहीं की जा सकती.”

रिपोर्ट के अनुसार प्रोटेस्ट के कानूनी टीम के सदस्य एडवोकेट अनवर सिद्दीकी ने कहा "हम विरोध पर कोई फैसला नहीं लेंगे जब तक कि सुप्रीम कोर्ट हमें ऐसा करने का निर्देश न दे."

 'चीन के वुहान में अमेरिकी सेना छोड़ा था कोरोना वायरस'- चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता का दावा

First published: 14 March 2020, 12:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी