Home » इंडिया » Shardha win one carore rupee in digidhan yojna.
 

किराने वाले की बेटी को डिजिधन योजना ने बनाया करोड़पति

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 April 2017, 17:04 IST

नीति आयोग की डिजिधन योजनाओं के विजेताओं के नाम आज सामने आ गए हैं. नागपुर में नीति आयोग के एक कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी ने इन विजेताओं के नामों का ऐलान किया. मोदी ने डिजिधन से संबधित दोनों योजनाओं डिजिधन योजना और डिजिधन व्यापार योजना के विजेताओं को सम्मानित किया.

महाराष्ट्र की श्रद्धा मोहन मैनशेट्टी को डिजिधन योजना की कैटेगरी में ये बड़ा पुरस्कार मिला है.श्रद्धा मोहन महाराष्ट्र की लातूर की रहने वाली है .उनके पिता वहां छोटी सी किराने की दुकान चलाते हैं. श्रद्धा ने मात्र 1590 रुपये का भुगतान कर 1 करोड़ रुपए जीते हैं. उन्हें ये एक करोड़ रुपए पहले विजेता के तौर पर मिले हैं.

श्रद्धा ने मोबाइल की किश्त चुकाने के लिए 1590 रुपये का भुगतान डिजिटल तरीके से किया था, उन्होंने सेंट्रल बैंक के जरिए रुपये कार्ड के माध्यम से ये किश्त दी थी. लातूर महाराष्ट्र से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की छात्रा हैंं.नीति आयोग ने ये लकी ड्रॉ योजना शुरू की थी.

डिजिधन योजना का दूसरा पुरस्कार हार्दिक कुमार चिमनभाई प्रजापति को मिला है उन्हें इनाम के तौर पर 50 लाख रुपये मिले हैं.वो एक शिक्षक हैं. बैंक ऑफ बड़ौदा के रुपये कार्ड के जरिए 1100 रुपये के डिजिटल ट्रांजैक्शन करने पर उन्हें ये इनाम मिला है.

तीसरा पुरस्कार जीतने वाले भरत सिंह देहरादून उत्तराखंड के हैं. उन्होंने मात्र 100 रुपये का डिजिटल ट्रांजैक्शन पीएनबी के जरिए किया था. उनकी उम्र  37 साल  हैं, वो  9वीं तक पढ़े हैं और एक  कपड़े की दुकान में काम करते हैं.उन्हें इनाम के तौर पर 25 लाख रुपए मिले हैं.

8 नवंबर को  नोटबंदी के बाद 25 दिसंबर 2016 को केंद्र सरकार ने डिजिटल पेमेंट  को बढ़ावा देने के लिए  नीति आयोग के जरिेए इन लकी ड्रॉ योजनाओं की शुरुआत की थी. नीति आयोग ने ग्राहक योजना और डिजिधन व्यापार योजना की शुरुआत की थी. डिजिधन व्यापार योजना के तहत 16 लाख लोगों ने लगभग 258 करोड़ रुपये जीते हैं.

First published: 14 April 2017, 17:04 IST
 
अगली कहानी