Home » इंडिया » Sheila Dikshit fond of western music and loved foot wears
 

वेस्टर्न म्यूजिक सुनने के साथ इन चीजों का शौक रखती थीं शीला दीक्षित

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 July 2019, 8:22 IST

दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित संगीत की बहुत शौकीन थीं. उन्हें वेस्टर्न म्यूजिक सुनना बहुत पसंद था. उन्होंने राजधानी दिल्ली को मॉडर्न लुक दिया. इसी के साथ वह खुद भी बेहत मॉडर्न थीं. उनके मॉडर्न होने का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि उन्हें वेस्टर्न म्यूजिक सुनना और जूतों का बहुत शौक था. वह नए नए जूते पहनने की बहुत शौकीन थीं. इस बात का जिक्र उन्होंने खुद अपनी आत्मकथा ‘सिटीजन डेल्ही : माय टाइम्स, माय लाइफ’ में किया है.

अपनी आत्मकथा में उन्होंने लिखा, "मैं घंटों रेडियो पर अपने प्रिय गानों के आने का इंतजार करती. किताबें पढ़ने में भी खूब सुकून मिलता.” अपने स्कूल के दिनों का जिक्र करते हुए वह कहतीं, पिता जी जिमखाना क्लब के सदस्य थे और उनका परिवार क्लब के पास डूप्लेक्स लेन में रहता था, वह वहां से हर हफ्ते छह किताबें लातीं और अगले सप्ताह तक उन्हें पढ़ डालतीं.

उनकी फेवरेट किताबों में निड ब्लायटन की कहानियां ‘फेमस फाइव’, रिचमल क्रॉम्पटन की ‘जस्ट विलियम्स’, एलेक्जेंडर डमास की ‘थ्री मस्कीटयर्स’ और विक्टर हूगो की ‘लेस मिजरेबल्स’ शामिल थीं. लेकिन उनकी सबसे पसंदीदा किताबें लुइस कैरल की ‘एलिस इन वंडरलैंड’ व ‘थ्रू द लुकिंग ग्लास, व्हॉट एलिस फाउंड देयर’ और शरलॉक होम्स की सीरीज थीं.

बता दें कि शीला हर शुक्रवार की रात पश्चिमी संगीत सुनना पसंद करती थी. रेडियो पर आने वाले ‘अ डेट विद यू’ कार्यक्रम में उनके पसंदीदा और नए गाने आते और वह रेडियो से कान लगाकर डोरिस डे और हेनरी बेलाफोंट का घंटों इंतजार करती रहती थींइसके अलावा पूर्व सीएम शीला दीक्षित को फुटवियर्स के खासा लगाव था. वह नए-नए जूते पहनने की बहुत शौकीन थीं. वह हमेशा ब्रांडेड फुटवियर्स पहनना ही पसंद करती थी, लेकिन अगर स्टाइल अच्छा लग जाए तो वह पटरी से जूते खरीदने से पीछे नहीं हटती थीं.

उन्होंने अपनी आत्मकथा में लिखा कि जनपथ से उन्हें जूतों में नया स्टाइल मिलता और पटरी की इन दुकानों ने ही उन्हें बड़े ब्रांड बाटा और बलूजा से छुटकार दिलाया. उन्हें जनपथ से तीन रुपये में मिलने वाली भड़कीले रंगों के स्ट्रैप वाली फ्लैट सेंडल बहुत पसंद थींअपनी आत्मकथा में उन्होंने लिखा है कि उन्हें पांच रुपये जेब खर्च के मिलते, वह इन्हें बचातीं और इन पैसों को इकट्ठा कर अलग अलग रंगों की जूतियां खरीदतीं. वह फिल्में देखने की बहुत शौकीन थींशाहरुख खान अभिनीत फिल्म 'दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ उन्होंने 20 बार देखी थी.  उन्होंने थियेटर में पहली फिल्म ‘हेमलेट’ देखी थी.

आज पंचतत्व में विलीन होंगी पूर्व सीएम शीला दीक्षित, 2.30 बजे होगा अंतिम संस्कार

First published: 21 July 2019, 8:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी