Home » इंडिया » Sheila Dixit last letter to Sonia Gandhi against Delhi state in charge PC Chacko
 

सनसनीखेज दावा: शीला दीक्षित ने सोनिया गांधी से की थी पीसी चाको की शिकायत, दो दिन बाद हो गई मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 July 2019, 14:17 IST

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का 20 जुलाई की दोपहर दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था. शीला दीक्षित पिछले कुछ समय से बीमार चल रही थीं. वहीं अब शीला दीक्षित के निधन से दो दिन पहले दिल्ली प्रभारी पीसी. चाको को लेकर उनकी तरफ से सोनिया गांधी को भेजा गया कथित शिकायती पत्र चर्चा में आ गया है.

मीडिया के सूत्रों के अनुसार, निधन से दो दिन पहले शीला दीक्षित ने एक पत्र सोनिया गांधी को लिखा था. इस पत्र में उन्होंने शिकायत की थी कि अजय माकन के इशारे पर दिल्ली कांग्रेस प्रभारी पीसी चाको कुछ ऐसे कदम उठा रहे हैं जो कांग्रेस के लिए ठीक नहीं है. शीला ने इस पर जांच करवाने की बात अपने पत्र में लिखी थी.

खबर के अनुसार, खुद शीला दीक्षित ने इस चिट्ठी को 18 जुलाई को सोनिया गांधी को दी थी. इसके बाद 19 जुलाई को उन्होंने कांग्रेस के सीनियर नेता अहमद पटेल से मुलाकात की थी. इस चिट्ठी को हालांकि आधिकारिक तौर पर उजागर नहीं किया गया. लेकिन साफ है कि दिल्ली कांग्रेस प्रभारी पीसी चाको से अंतिम समय में उनका टकराव था. 

इससे पहले पीसी चाको की ओर से चिट्ठी भेजी गई थी. इस चिट्ठी को लेकर अब कांग्रेस के भीतर कई तरह के सवाल उठने लगे हैं. हालांकि कोई पार्टी नेता चिट्ठी को उनकी बीमारी या निधन से नहीं जोड़ रहा है. लेकिन कांग्रेस नेता सवाल उठा रहे हैं कि क्या प्रभारी को अधिकार है कि वे किसी प्रदेश अध्यक्ष को निर्देश देकर कामकाज किसी और को सौंपने को कह सकता है. 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, चाको ने शीला दीक्षित को चिट्ठी लिखकर कहा था, "आपकी सेहत ठीक नहीं है ऐसे में तीनों कार्यकारी अध्यक्ष स्वतंत्र रूप से काम करेंगे और बैठक बुलाएंगे." चाको की इस चिट्ठी के बाद ही सूत्रों के अनुसार, शीला दीक्षित ने अपनी आपत्ति कांग्रेस नेतृत्व से दर्ज कराई थी. 

इमरान खान के सामने कश्मीर मामले पर ट्रंप ने किया झूठा दावा ! भड़का भारत तो व्हाइट हाउस को देनी पड़ी सफाई

अमेरिकी मीडिया ने खोली पोल, झूठे हैं डोनाल्ड ट्रंप, राष्ट्रपति बनने के बाद बोल चुके हैं 10,796 बार झूठ

First published: 23 July 2019, 14:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी