Home » इंडिया » shiv sena ask modi, where is your residence, in india or abroad
 

शिवसेना ने पीएम मोदी से पूछा, आपका आवास देश में या विदेश में

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 May 2016, 13:25 IST
(सामना )

मोदी सरकार के दो साल पूरे होने पर उसकी सहयोगी पार्टी शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ के संपादकीय में सरकार को कई मुद्दों पर आड़े हाथों लिया गया है. शिवसेना ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि यह सरकार महंगाई पर लगाम लगाने, सीमा पार आतंकवाद को रोकने और अपनी योजनाओं को जनता तक पहुंचाने में पूरी तरह से विफल रही है.

इसके अलावा शिवसेना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विदेश दौरों पर भी निशाना साधा है. शिवसेना ने प्रधानमंत्री मोदी से पूछा है कि वह देश को बताएं कि उनका आवास देश में है या फिर विदेश में.

शिवसेना ने यह तो माना कि मोदी सरकार के पिछले दो साल के कार्यकाल में कोई बड़ा घोटाला नहीं हुआ है, लेकिन यह सरकार मुद्रास्फीति को रोकने, महंगाई की मार से जूझ रहे लोगों को राहत दिलाने और कृषि क्षेत्र के संकट को दूर करने में पूरी तरह से विफल रही है.

सामना के संपादकीय में लिखा गया है, "दो साल में मोदी सरकार ने एक के बाद एक योजना शुरू की. लेकिन उनमें से किसी भी योजना को लोग मुश्किल से ही जानते हैं. पिछली सरकार भी इन्हीं योजनाओं को विभिन्न नामों से चला रही थी, जो आखिर में भ्रष्टाचार के जाल में उलझ गई थीं."

कालेधन के मुद्दे पर शिवसेना ने मोदी सरकार की खिंचाई करते हुए कहा कि पीएम ने लोकसभा चुनाव के दौरान काले धन पर जनता से बड़े-बड़े वादे किए, जिसे अब तक पूरा नहीं किया गया.

सामना में लिखा है, "पीएम ने जनता से अपने वादे में कहा था कि विदेशी बैंकों में जमा भारत का कालाधन वापस लाएंगे और हरेक व्यक्ति के बैंक खाते में लाखों रुपये जमा करेंगे. लेकिन दो साल पूरे हो जाने पर भी पीएम ने अपना वादा पूरा नहीं किया.

इसके साथ ही पाकिस्तान के साथ वार्ता करने और सीमा पार से हो रही निरंतर आतंकवादी गतिविधियों को लेकर भी शिवसेना ने मोदी सरकार पर हमला बोला है. शिवसेना का कहना है, "कश्मीर में पाकिस्तानियों द्वारा की जा रही आतंकवादी गतिविधियां रुकी नहीं हैं. हमारे जवान नक्सलियों और आतंकवादियों के साथ लड़ाई में शहीद हो रहे हैं. फिर भी सरकार पड़ोसी देश पाकिस्तान के साथ वार्ता कर रही है."

First published: 27 May 2016, 13:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी