Home » इंडिया » shiva lingam outside university of hyderabad
 

हैदराबाद सेंट्रल यूनीवर्सिटी में शिवलिंग रखे जाने से तनाव

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 May 2016, 14:22 IST
(एजेंसी)

हैदराबाद सेंट्रल यूनीवर्सिटी के मुख्य द्वार के सामने बगीचे में एक शिवलिंग के रखे जाने से विवाद खड़ा हो गया है. यूनीवर्सिटी प्रशासन को इस बात का पता सोमवार को चला. यूनीवर्सिटी में शिवलिंग उस फैसले के बाद रखा गया, जिसके तहत परिसर में गैरकानूनी ढांचों को हटाने का फैसला लिया गया था.

इस फैसले के तहत विश्वविद्यालय परिसर से दिवंगत छात्र रोहित वेमुला के स्मारक को भी हटाना था. जिसे यूनीवर्सिटी के स्टूडेंट्स ने रोहित की याद में बनवाया है. इस शिवलिंग के मामले से पहले यूनीवर्सिटी प्रशासन ने बौद्ध भिक्षुओं को कैंपस में घुसने की इजाजत देने से इनकार कर दिया था.

इसके बाद करीब 50 छात्रों ने कुछ प्रोफेसर्स के साथ यूनीवर्सिटी गेट के बाहर बुद्ध जयंती मनाई थी. अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक यूनीवर्सिटी में रखे शिवलिंग के बारे में वहां के प्रोफेसर्स का कहना है कि उन्हें भी नहीं पता यह कब और किसने रखा.

वहीं छात्रों का एक धड़ा इसे ब्राह्मणवादी ताकतों की साजिश बता रहा है. यूनीवर्सिटी प्रशासन को इसकी कोई जानकारी नहीं थी. जब छात्रों ने इसकी शिकायत की, तो उन्होंने इस घटना को गलत और गैरकानूनी बताया.

इस मामले में एससी/एसटी टीचर्स फोरम के प्रवक्ता श्रीपथी रामदू कहते हैं कि कुछ दिनों से यूनीवर्सिटी के अंदर और बाहर निर्माण कार्य चल रहा है. पर अब तक तो मैंने यूनीवर्सिटी के बाहर कभी कोई शिवलिंग नहीं देखा था. जबकि मैं 2009 से यूनीवर्सिटी में हूं.

वहीं यूनीवर्सिटी के रजिस्ट्रार एम सुधाकर ने इस बाबत कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यूनीवर्सिटी के सरकारी संस्था होने के नाते हमें संविधान का पालन करना है. जब संविधान की प्रस्तावना में ही लिखा है कि देश धर्मनिरपेक्ष है. तो धर्म से जुड़ा कोई भी मसला कैंपस में नहीं उठना चाहिए.

यूनीवर्सिटी परिसर में किसी भगवान की तस्वीर की भी इजाजत नहीं है. अपने रहने के स्थानों पर छात्रों को अपने धर्म के हिसाब से रहने की आजादी है.

गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले यूनीवर्सिटी के कुछ मुस्लिम छात्रों ने शुक्रवार की नमाज पढ़ने के लिए एक दीवार खड़ी की थी.

उसके बाद प्रतिक्रिया में कुछ सिख छात्रों के द्वारा यूनीवर्सिटी प्रशासन से परिसर में गुरुद्वारा बनाने की अनुमति मांगी गई थी. तब यूनीवर्सिटी प्रशासन ने फौरन ही मुस्लिम छात्रों के द्वारा खड़ी की गई दीवार को हटाने और इस तरह के सभी धार्मिक ढांचे पर बैन करने का आदेश जारी किया था.

First published: 26 May 2016, 14:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी