Home » इंडिया » Shivpal Yadav: First of all, Quami Ekta Dal wasn't Mukhtar Ansari's party. Afzal Ansari was party president
 

शिवपाल यादव: मुख्तार नहीं अफजाल का कौमी एकता दल

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 June 2016, 14:12 IST
(फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश में कौमी एकता दल के समाजवादी पार्टी में विलय के बाद मचा घमासान थमता नहीं दिख रहा. यूपी के कैबिनेट मंत्री शिवपाल यादव ने कहा है कि कौमी एकता दल के अध्यक्ष अफजाल अंसारी हैं.

मंगलवार को शिवपाल यादव की मौजूदगी में समाजवादी पार्टी और कौमी एकता दल का विलय हुआ था. इसी पार्टी से पूर्वांचल के माफिया डॉन मुख्तार अंसारी मऊ सदर सीट से विधायक हैं. 

शिवपाल यादव ने लखनऊ में कहा, "पहली बात यह कि कौमी एकता दल मुख्तार अंसारी की पार्टी नहीं थी. अफजाल अंसारी पार्टी के अध्यक्ष थे."

साथ ही शिवपाल यादव ने कहा, "हमने अफजाल अंसारी और उनके भाई सिबगतुल्लाह अंसारी को समाजवादी पार्टी में शामिल किया है. हमने मुख्तार अंसारी को पार्टी में नहीं लिया है."

मंगलवार को हुआ था विलय

कौमी एकता दल के अध्यक्ष अफजाल अंसारी, मुख्तार अंसारी के भाई हैं. उनकी पार्टी के सपा में विलय के बाद से उत्तर प्रदेश में सियासी सरगर्मी तेज हो गई है. मंगलवार दोपहर को पार्टी का विलय होने के बाद सीएम अखिलेश यादव ने शाम को वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री बलराम यादव को बर्खास्त कर दिया था.

माना जा रहा है कि माध्यमिक शिक्षा मंत्री बलराम यादव पर यह कार्रवाई कौमी एकता दल के सपा में विलय के पीछे उनकी भूमिका के चलते की गई. 

पार्टी के अंदर सब ठीक है!

बताया जा रहा है कि यूपी के सीएम अखिलेश यादव इस विलय के बाद से नाराज थे. हालांकि यह नहीं बताया गया है कि मंत्री बलराम यादव पर किस वजह से गाज गिरी है?

इस बीच विलय को लेकर पार्टी में उठापटक की खबरों से इनकार करते हुए शिवपाल यादव ने कहा, "पार्टी के अंदर सब कुछ ठीक है. यह मुख्यमंत्री का विवेकाधिकार है कि किसको क्या जिम्मेदारी दी जानी चाहिए और किसे मंत्री बनाया जाना चाहिए?" 

इस बीच मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपने आज के सारे निर्धारित कार्यक्रम रद्द कर दिए हैं. मुख्यमंत्री की लखनऊ में समाजवादी पार्टी के नेताओं के साथ अहम बैठक चल रही है. वहीं कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव भी अखिलेश यादव के आवास पर पहुंचे हैं.

First published: 22 June 2016, 14:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी