Home » इंडिया » SIT says Sri Ram Sene man Waghmore had shot Gauri
 

क्या श्रीराम सेने का कार्यकर्त्ता है गौरी लंकेश को गोली मारने वाला शख्स ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 June 2018, 16:43 IST

5 सितंबर 2017 को घर के बाहर पत्रकार और कार्यकर्ता गौरी लंकेश की गोली मारकर हत्या करने के नौ महीने बाद मामले की जांच कर रही एसआईटी इस हत्याकांड को सुलझाने के करीब है. एसआईटी यह साबित करने के लिए आश्वस्त है कि 26 वर्षीय परशुराम वाघमारे वही व्यक्ति था जिसने गौरी लंकेश को गोली मारी थी. द हिन्दू की रिपोर्ट के अनुसार परशुराम वाघमारे कर्नाटक-महाराष्ट्र सीमावर्ती सिंधगी, विजयपुरा जिले का श्री राम सेने का कार्यकर्ता है. एसआईटी ने उसे हाल ही में गिरफ्तार किया गया था और अब उसने एसआईटी के सामने अपना गुनाह कबूल लिया है.

गौरी लंकेश के घर के पास लगे सीसीटीवी फुटेज ने तीन कंस्ट्रक्शन वर्कर और एक पत्रकारिता के छात्र को देखा गया जो सड़क पर चल रहे थे, सीसीटीवी में बंदूकधारक और मोटरसाइकिल सवार हत्या के बाद उनके भागते हुए दिखाई दिए थे. इनमे से एक व्यक्ति ने बाघमारे को पहचाना. उस समय उन्होंने हेल्मेट पहना हुआ था लेकिन जब वे गौरी लंकेश के घर के सामने इंतजार कर रहे थे, तो गवाहों ने दोनों को अपने चेहरों को देख लिया था.

इस मामले में एसआईटी में ने तीन स्केच जारी किए थे. गौरी लंकेश के घर से सीसीटीवी फुटेज के फोरेंसिक विश्लेषण ने शूटर की ऊंचाई लगभग 5 फीट 2 इंच रखी थी. वहीं वाघमोर का शरीर भी उस बंदूकधारक से मेल खाता था. एसआईटी के अनुसार वीडियो और परशुराम वाघमारे में कई समानताएं है.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार सूत्रों का कहना है कि बाघमारे ने एसआईटी के सामने अपने गुनाह को कबूल लिया है. एसआईटी के सामने वाघमारे ने कहा, 'मुझे मई 2017 में कहा गया था कि अपने धर्म को बचाने के लिए मुझे किसी को मारना है. मैं तैयार हो गया. मुझे पता नहीं था कि वह कौन हैं लेकिन अब मुझे लग रहा है उन्हें मारना नहीं चाहिए था.

एक अन्य रिपोर्ट के अनुसार एसआईटी के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘वाघमारे ने गौरी को गोली मारी और फॉरेंसिक जांच से पुष्टि होती है कि (तर्कवादी) गोविंद पानसरे, एमएम कलबुर्गी और गौरी की हत्या एक ही हथियार से की गई.’ रिपोर्ट्स के अनुसार वाघमारे ने यह भी खुलासा किया कि उसे एयरगन चलाने की ट्रेनिंग के लिए 3 सितंबर को बेंगलुरु ले जाया गया था.

उसने कहा 'मुझे पहले एक घर में ले जाया गया. वहां से मुझे बाइक पर एक आदमी के साथ गौरी का घर दिखाने के लिए भेजा गया. अगले दिन मुझे दूसरे रूम में ले जाया गया, जहां से हम फिर से गौरी के घर गए। मुझे उसी दिन हत्या करने को कहा गया लेकिन जब तक हम वहां पहुंचे तब तक गौरी घर के अंदर जा चुकी थीं.'

ये भी पढ़ें : गौरी लंकेश हत्याकांड : 'मुझसे कहा गया, धर्म को बचाने के लिए मुझे किसी को मारना है'

First published: 16 June 2018, 12:23 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी