Home » इंडिया » Catch hindi news, republic day, Beating Retreat, instruments , 26 jan
 

सितार, संतूर और तबले की रंगत से सराबोर होगा बीटिंग रिट्रीट

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 December 2015, 16:56 IST

67वें गणतंत्र दिवस की तयारियां शुरू हो चुकी है. 26 जनवरी को मार्चिंग परेड के बाद, तीन दिवसीय उत्सव का समापन 29 जनवरी को सेना के बहुप्रतीक्षित बीटिंग रिट्रीट के साथ करने की पुरानी परंपरा है.

इस बार आयोजन में सितार, संतूर और तबले जैसे भारतीय शास्त्रीय वाद्यों को शामिल करने की योजना है. हर बार शो में विशेष रुप से इस्तेमाल किये जाने वाले बिगुल, पाइप और ड्रम से इस बार का उत्सव अलग होगा. 

रायसीना हिल से लेकर विजय चौक तक इस बार लगभग 50 हिंदुस्तानी संगीत के कलाकारों की संगत देखने को मिलेगी. ये कलाकार नॉर्थ और साउथ ब्लॉक के लॉन में भारतीय शास्त्रीय संगीत की लहरियां बिखेरेंगे. पिछले साल के बीटिंग रिट्रीट कार्यक्रम में 'वीर भारत', 'छाना बिलौरी', 'जय जनम भूमि' और अतुल्य भारत' धुनों को सबसे ज्यादा पसंद किया गया था.

इस बार परेड को 90 मिनट तक छोटी कर दिया गया है और परेड में सेवानिवृत्त सैनिकों को भी शामिल करने की योजना है. जाएगा. नौसेना भी इस बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बहुप्रचारित योजना मेक इन इंडिया को थीम बनाकर रक्षा परियोजना की झांकी पेश करेगी.

इस बार के बीटिंग रिट्रीट में दर्शकों को अच्छी तरह से सबकुछ दिख सके इसकी विशेष व्यवस्था की जा रही है. जगह-जगह एलईडी स्क्रीन, स्पाइडर कैमरा और सराउंड साउंड सिस्टम लगाया जाएगा.

पहली बार बीटिंग रिट्रीट में केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों और राज्य पुलिस बैंड को भी शामिल किया जाएगा.

First published: 18 December 2015, 16:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी