Home » इंडिया » Situation tensed in Itanagar (Arunachal Pradesh) after supporters of Kalikho Pul symbolically burned a coffin
 

कलिखो पुल की मौत के बाद ईटानगर में तनाव, समर्थकों ने की सीबीआई जांच की मांग

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 August 2016, 13:38 IST
(एएनआई)

अरुणाचल प्रदेश की राजधानी ईटानगर में पूर्व सीएम कलिखो पुल की मौत के बाद तनाव के हालात हैं. बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री आवास के बाहर दिवंगत कांग्रेस नेता कलिखो पुल के करीब दो हजार समर्थक जुट गए हैं.

पुल के समर्थकों ने उनकी संदिग्ध मौत की सीबीआई जांच की मांग की है. इस बीच स्थानीय कांग्रेस विधायक से कलिखो पुल के समर्थकों की झड़प होने की खबर है. पुल के समर्थकों ने ईटानगर में विरोध प्रदर्शन करते हुए सांकेतिक तौर पर एक ताबूत को जलाया.

कलिखो पुल के समर्थकों ने ईटानगर में मुख्यमंत्री आवास का घेराव किया है. अरुणाचल प्रदेश के आठवें मुख्यमंत्री कलिखो पुल का नाम राजनीतिक संकट के बाद चर्चा में आया था. फरवरी 2016 से लेकर जुलाई में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने तक वह राज्य के मुख्यमंत्री रहे थे.

पढ़ें: अरुणाचल प्रदेश के पूर्व सीएम कलिखो पुल की मौत, पंखे से लटका मिला शव

सुप्रीम कोर्ट ने नबाम तुकी की सरकार को बहाल करने का आदेश दिया था, जिसके बाद कलिखो पुल समेत 30 बागी कांग्रेसी विधायक दोबारा पार्टी के साथ आ गए थे. हालांकि कांग्रेस ने नेतृत्व परिवर्तन करते हुए तुकी की जगह पेमा खांडू को सत्ता सौंप दी.

एएनआई

कोई सुसाइड नोट नहीं मिला

अरुणाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता कलिखो पुल की सोमवार रात को उनके आवास पर संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी.

पुल का शव उनके कमरे में पंखे से लटका हुआ पाया गया था. दिवंगत पूर्व सीएम पुल अपनी पत्नी और पांच बच्चों के साथ यहां रहते थे. आशंका जताई जा रही है कि डिप्रेशन की वजह से उन्होंने खुदकुशी की है.

इस बीच समाचार एजेंसी एएनआई ने केंद्रीय गृह मंत्रालय के सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि मौके से कोई सुसाइड नोट नहीं बरामद हुआ है. गृह मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक कलिखो पुल के मौत की वजह डिप्रेशन हो सकती है.

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू से इस मामले में बातचीत की है.

First published: 9 August 2016, 13:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी