Home » इंडिया » siwan dm and sp recommended shahabuddin bail cancellation
 

सीवान के डीएम और एसपी ने शहाबुद्दीन की जमानत रद्द करने की सिफारिश की

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 5:46 IST
(एजेंसी)

बिहार के सीवान जिले के डीएम और एसपी ने 5 दिन पहले जेल से रिहा हुए बाहुबली नेता मोहम्मद शहाबुद्दीन की जमानत को रद्द करने की सिफारिश सरकार से की है.

इस संबंध में जिले के इन दोनों आला अधिकारियों ने एक रिपोर्ट शासन को भेजी है. जिसमें कानून-व्यवस्था का हलावा देते हुए शहाबुद्दीन की जमानत रद्द करने की बात कही गई है.

इस रिपोर्ट से शहाबुद्दीन की मुश्किलें दिन-पर-दिन बढ़ती जा रही हैं. इससे पहले तमाम सियासी दल भी बिहार सरकार से शहाबुद्दीन की रिहाई रद्द किए जाने की मांग कर रहे हैं.

वहीं, भारी दबाव को देखते हुए राज्य सरकार शहाबुद्दीन की जमानत के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाने का ऐलान कर चुकी है. राज्य सरकार के अलावा सीवान में मारे गए समाचार पत्र हिंदुस्तान के वरिष्ठ पत्रकार राजदेव रंजन की पत्नी भी शहाबुद्दीन के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटा रही हैं.

इस बीच राजदेव रंजन की पत्नी के गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मिलने के बाद सीबीआई की टीम राजदेव हत्याकांड की जांच करने सीवान पहुंच रही है.

शहाबुद्दीन को दोबारा जेल भेजने के लिए सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण भी लामबंद है. प्रशांत भूषण ये याचिका चंदा बाबू की तरफ से दायर करेंगे, जिनके तीन बेटों की हत्या का आरोप शहाबुद्दीन पर है.

गौरतलब है कि शहाबुद्दीन को सीवान के बहुचर्चित तेजाब कांड में दो सगे भाइयों की हत्या के चश्मदीद गवाह राजीव रौशन की हत्या के मामले में पटना हाई कोर्ट से जमानत मिलने के बाद भागलपुर सेंट्रल जेल से रिहा कर दिया गया था.

16 अगस्त, 2004 को सीवान के व्यवसायी चंद्रकेश्वर प्रसाद उर्फ चंदा बाबू के बेटों गिरीश, सतीश और राजीव का अपहरण किया गया था. गिरीश और सतीश की तेजाब डालकर हत्या कर दी गई थी, जबकि राजीव उनके चंगुल से भाग निकलने में कामयाब रहा था.

First published: 15 September 2016, 10:57 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी