Home » इंडिया » Supreme Court issues notices to Bihar minister Tej Pratap Yadav and Mohd Shahabuddin in journalist murder case
 

गैंगस्टर के गुर्गे के साथ दिखने पर बुरे फंसे लालू के बेटे तेज प्रताप, सुप्रीम कोर्ट से नोटिस

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 September 2016, 12:53 IST

आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बेटे और बिहार के स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव की मुश्किलें बढ़ गई हैं. सीवान के पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने तेज प्रताप और आरजेडी के पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन को नोटिस जारी किया है.

दरअसल तेज प्रताप यादव की एक तस्वीर सामने आई थी. इस तस्वीर में राजदेव रंजन की हत्या का आरोपी शार्प शूटर मोहम्मद कैफ उनके पास खड़ा था. इस तस्वीर में कैफ तेज प्रताप यादव को गुलदस्ता देते नजर आ रहा है.

दो हफ्ते में मांगा जवाब

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को राजदेव रंजन की हत्या के मामले में लालू यादव के बेटे तेज प्रताप और शहाबुद्दीन को नोटिस जारी करते हुए दो हफ्ते के अंदर जवाब मांगा है.

तस्वीरोें में तेज प्रताप के साथ दिख रहे मोहम्मद कैफ ने हाल ही में अदालत में सरेंडर किया था, जिसके बाद उसे जेल भेज दिया गया था.

बीजेपी नेताओं को भी मिले नोटिस

इस बीच सुप्रीम कोर्ट के नोटिस के बाद तेज प्रताप यादव की प्रतिक्रिया भी सामने आई है. पत्रकारों ने जब तेज प्रताप से इस मामले में सवाल पूछा तो तेज प्रताप ने कहा कि जिन बीजेपी नेताओं के साथ कैफ की तस्वीर है उन्हें भी नोटिस भेजा जाना चाहिए.

फेसबुक

तेज प्रताप ने दी थी सफाई

तेज प्रताप यादव की यह तस्वीर मोहम्मद कैफ के साथ सोशल मीडिया पर वायरल हो गई. विवाद बढ़ने पर तेज प्रताप ने सफाई देते हुए कहा कि हजारों लोग उनके साथ फोटो खिंचवाते हैं लेकिन वे सबको तो नहीं जानते हैं.

पढ़ें: लालू यादव के बेटे तेजप्रताप के साथ दिखा शार्प शूटर मोहम्मद कैफ, फोटो हुई वायरल

फेसबुक पर तेज प्रताप ने लिखा था, "मुझसे हर रोज हज़ारों लोग मिलने आते हैं, साथ में खड़े हो कर फोटो खिंचवाते हैं. मैं किसी को फोटो खिंचवाने से नहीं रोकता. यह मेरा स्वभाव नहीं है. किन्तु जो फोटो मीडिया में चल रहा है उसके बारे में मैं यह यही कहूंगा कि ना तो मैं इस व्यक्ति को जानता हूं और ना मुझे स्मरण है कि यह फोटो कब खींचा गया. 

टीनू जैन-पीएम की तस्वीर की थी पोस्ट

तेज प्रताप ने आगे लिखा, "यह आम जनता की हैसियत से ही यह फोटो खिंचवा पाया गया होगा. यह व्यक्ति राजद का सदस्य भी नहीं है. और जो लोग इस फोटो के आधार पर मुझसे इस्तीफा मांग रहे हैं, वो पहले नरेंद्र मोदी से इस फोटो के आधार पर इस्तीफा मांगें जो मैं पेश कर रहा हूं."

तेज प्रताप ने फेसबुक पोस्ट में कहा, "यह टीनू जैन सेक्स रैकेट चलाता था. जाने किन किन को क्या-क्या सप्लाई करता था. यह भाजपा का सदस्य भी था. प्रधानमंत्री से लेकर हर बड़े भाजपा नेता तक पहुंच भी थी. भाजपा की शह पर नमो आर्मी ब्रिगेड भी चला रहा था और सभी दिग्गज भाजपा नेता के साथ इसके फोटो और सम्बन्ध भी हैं."

पढ़ें: सीवान के डीएम और एसपी ने शहाबुद्दीन की जमानत रद्द करने की सिफारिश की

शहाबुद्दीन की रिहाई के बाद उनके काफिले में भी मोहम्मद कैफ आरजेडी नेता के बगल में ही दिखा था.

शहाबुद्दीन के काफिले में भी था कैफ

इससे पहले हत्या का आरोपी मोहम्मद कैफ आरजेडी के पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन के काफिले में भी नजर आया था. 10 सितंबर को जब भागलपुर जेल से शहाबुद्दीन की रिहाई हुई थी, उसी दिन शहाबुद्दीन के काफिले में हत्या का आरोपी मोहम्मद कैफ उर्फ बंटी भी दिखाई दिया था.

इन तस्वीरों में कैफ को शहाबुद्दीन के ठीक पीछे देखा गया था. तब भी उसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुई थीं. लगभग तीन महीने से फरार चल रहे मोहम्मद कैफ की पुलिस कई मामलों में तलाश कर रही थी.

पढ़ें: जानिए 11 साल बाद जेल से निकले बिहार के बाहुबली शहाबुद्दीन की हिस्ट्रीशीट

13 मई को बिहार के सीवान जिले में पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या कर दी गई थी. शहाबुद्दीन पर राजदेव का मर्डर कराने के आरोप लगे थे. प्रत्यक्षदर्श‍ि‍यों ने बताया था कि पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या मोहम्मद कैफ उर्फ बंटी, लड्डन मियां, जिम्मी और जावेद ने मिलकर की थी.

पुलिस ने इस मामले में जिन शूटरों को गिरफ्तार किया था, उन्होंने पूछताछ में लड्डन मियां का नाम लिया था. लड्डन मियां को बाहुबली शहाबुद्दीन का करीबी माना जाता है. लड्डन मियां ने भी पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया था.

पढ़ें: शहाबुद्दीन से साक्षात्कार: एक शहर-दो अफसाने, वाया डॉन का गांधीवाद

First published: 23 September 2016, 12:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी