Home » इंडिया » Siwan Journalist Rajdeo Ranjan Murder: SIT arrested 5 people,gave their statement and confessed
 

बिहार: पत्रकार हत्याकांड में पांच गिरफ्तार, शहाबुद्दीन पर गहराया शक

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 May 2016, 13:59 IST
(कैच हिंदी )

बिहार के सीवान में पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या के मामले में पुलिस ने पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है. पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या 13 मई को हुई थी.

पुलिस का दावा है कि जिन्हें गिरफ्तार किया गया है, वही इस हत्याकांड में शामिल हैं. वहीं इस मामले में गिरफ्तारी के बाद सीवान से आरजेडी के पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन पर शक गहराता जा रहा है. कैच ने पहले ही इस मामले में शहाबुद्दीन की भूमिका पर सवाल उठाए थे.

एडीजी सुनील कुमार ने बताया, "सीवान में पत्रकार की हत्या के मामले में विशेष जांच टीम (एसआईटी) बनाई गई थी. पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है. पूछताछ के दौरान उन्होंने कबूल किया है कि वारदात के पीछे उन्हीं का हाथ था. उनके बयान दर्ज हो गए हैं."

पढ़ें: पत्रकार की हत्या के तार शहाबुद्दीन से जुड़ते दिख रहे हैं

शहाबुद्दीन के करीबी ने दी सुपारी !

पुलिस सूत्रों के मुताबिक लड्डन मियां ने पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या की सुपारी दी थी. लड्डन मियां को पूर्व आरजेडी सांसद शहाबुद्दीन का करीबी माना जाता है. बताया जा रहा है कि इस हत्याकांड में मेन शूटर रोहित है.

सूत्रों के मुताबिक शूटर रोहित और विजय को लड्डन मियां ने पत्रकार की हत्या के लिए सुपारी दी थी. यानी इस हत्याकांड के तार अब सीधे तौर पर शहाबुद्दीन से जुड़ते जा रहे हैं.

पढ़ें: बिहार में पत्रकार की सरेआम हत्या

दैनिक हिंदी अखबार हिंदुस्तान के पत्रकार राजदेव रंजन 24 वर्षों से पत्रकारिता कर रहे थे. उनकी 13 मई को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. इस मामले में तफ्तीश के दौरान सीवान जेल पर पुलिस ने छापा भी मारा था. वहीं शहाबुद्दीन का सीवान जेल से भागलपुर जेल ट्रांसफर कर दिया गया था. 

एडीजी का कहना है कि वारदात में इस्तेमाल हथियारों की विशेषज्ञों से जांच कराई जाएगी. वहीं इस मामले में अभी कुछ और गिरफ्तारियां होना बाकी हैं.

एडीजी का कहना है, "वारदात के पीछे मंशा और साजिश का पता लगाया जा रहा है. हमारी जांच सही दिशा में आगे बढ़ रही है. मामले की जांच में सकारात्मक प्रगति हुई है. वारदात में इस्तेमाल मोटरसाइकिल बरामद हो चुकी है. हत्या में इस्तेमाल हथियार की जांच होगी."

जेल में मंत्री से मुलाकात का मामला

इसी साल अप्रैल में लालू यादव की पार्टी आरजेडी ने शहाबुद्दीन को पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारी समिति का सदस्य बनाया था. मार्च में एक आरजेडी मंत्री ने नीतीश सरकार के लिए मुसीबत खड़ी कर दी थी.

मंत्री अब्दुल गफूर और आरजेडी विधायक ने जेल में बंद शहाबुद्दीन के साथ अपना एक फोटो सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया था. तस्वीर में शहाबुद्दीन, मंत्री और विधायक के साथ नजर आ रहे हैं. जेल के नियमों को ताक पर रखकर इस दौरान तीनों की खातिरदारी की जा रही थी.

शहाबुद्दीन को सीवान की स्पेशल कोर्ट ने 2004 के चर्चित एसिड मर्डर मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई थी. सीवान के कारोबारी के दो बेटों की हत्या के मामले में शहाबुद्दीन को ये सजा हुई थी.

मंत्री अब्दुल गफूर और आरजेडी विधायक के साथ शहाबुद्दीन (ट्विटर)
First published: 25 May 2016, 13:59 IST
 
अगली कहानी