Home » इंडिया » Smriti Irani vs Mayawati Over Rohith Suicide in Rajya Sabha
 

स्मृति ईरानी: मेरा सिर कलम करके ले जाने की हिम्‍मत है तो ले लेकर जाओ

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 February 2016, 18:00 IST

दो दिन से संसद में जेएनयू-रोहित वेमुला पर जारी गतिरोध का आज एक नया आयाम खुल गया. राज्यसभा में चल रही बहस के दूसरे दिन आज शुक्रवार को मानव संसाधन मंत्री स्‍मृति ईरानी और बीएसपी सुप्रीमो मायावती एक बार फिर से आमने-सामने आ गए.

हैदराबाद सेंट्रल युनिवर्सिटी के छात्र रोहित वेमुला की आत्‍महत्‍या की जांच कर रहे पैनल में एक भी दलित सदस्‍य के नहीं होने का मामला उठाते हुए मायावती ने कहा कि वह इस मामले में मंत्री के दिए गए जवाब से संतुष्‍ट नहीं हैं. मायावती के मुताबिक मंत्रीजी ने झूठ बोला है.

इसके बाद मायावती ने यह भी कहा कि 'मंत्री स्‍मृति ईरानी ने इस मामले में जैसा पहले कहा था कि अगर विपक्ष उनके बयान से संतुष्ट नहीं होगा तो वह शीश काटकर चढ़ा देंगी. अब मैं माग करती हूं कि वो अपना वादा पूरा करें.'

mayawati

बसपा प्रमुख के इस बयान के बाद स्‍मृति ईरानी एक बार फिर से भड़क गईं. उन्होंने ट्वीट करके कहा, 'अगर मेरे जवाब से संतुष्‍ट नहीं हैं, और सिर कलम करके ले जाने की हिम्‍मत है तो ले लेकर जाओ.'

गौरतलब है कि संसद के राज्यसभा में गुरुवार को हुए रोहित वेमुला आत्महत्या के मामले में सरकार की ओर से बयान देते हुए मानव संसाधन मंत्री स्‍मृति ईरानी ने कहा था कि यह गलत है कि जांच कमेटी में दलित बिरादरी का कोई सदस्‍य नहीं था.

इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा था कि रोहित की कोई भी फेलोशिप नहीं रोकी गई थी. अगर मायावती उनके बयान से संतुष्‍ट नहीं हुईं तो वे अपना सिर काटकर उनके चरणों में रख देंगी.

मायावती ने आज शुक्रवार को कहा कि कल स्‍मृति ईरानी ने इस मामले में उनसे सदन की लॉबी में अलग से माफी मांगी थी.

मायावती ने कहा कि बड़े होने के नाते उन्‍होंने स्मृति को माफ भी कर दिया था, लेकिन अब आगे से वो ऐसा नहीं करेंगी.

First published: 26 February 2016, 18:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी