Home » इंडिया » social media reacts to rohith vemula suicide
 

दलित छात्र की 'आत्महत्या' पर सोशल मीडिया पर फूटा लोगों का गुस्सा

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 January 2016, 15:42 IST

हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी (एचसीयू) के दलित छात्र रोहित वेमुला की खुदकुशी पर सोशल मीडिया पर लोग तीखा आक्रोश व्यक्त कर रहे हैं.

विज्ञान तकनीक और सोशल स्टडीज में पिछले दो साल से पीएचडी कर रहे रोहित ने रविवार रात को आत्महत्या कर ली थी.

साइबराबाद पुलिस आयुक्त सीवी आनंद ने मीडिया को बताया कि 26 वर्षीय रोहित छात्रावास के कमरे में फांसी से लटके मिले.

रोहित पिछले साल अगस्त में एचसीयू से निलंबित किए गए पांच शोधकर्ताओं में से एक थे.

छात्रों पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के एक नेता से मारपीट का आरोप था. बाद में यह निलंबन वापस ले लिया गया था. केंद्रीयमंत्री और भाजपा बंडारू दत्तात्रेय की भूमिका भी इस मामले में संदेहास्पद हो गई है. उन्होंंने रोहित समेत पांच लड़कों के खिलाफ मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी को पत्र लिखकर कार्रवाई की मांग की थी. उनके पत्र के जवाब में स्मृिति ईरानी ने हैदराबाद सेंट्रल युनिवर्सिटी के वीसी को पत्र लिखकर रोहित समेत पांच छात्रों को बहिष्कृति करने का आदेश दिया था.

bandaru letter

स्मृति ईरानी को लिखा गया बंडारू दत्तात्रेय का पत्र

सोशल मीडिया में एक सुसाइड नोट भी शेयर किया जा रहा है. माना जा रहा है कि ये खत रोहित ने मरने से पहले लिखा था.

सोशल मीडिया पर आक्रोश

रोहित की आत्महत्या की खबर आने के बाद सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा.

फेसबुक पर वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल ने लिखा है, 'यह कोल्ड ब्लडेड मर्डर है. सोच समझकर की गई हत्या. रोहित वेमुला की हत्या की गई है.'

facebook comment

फेसबुक पर कुमारी मीना ने लिखा है, 'हैदराबाद यूनिवर्सिटी में बीजेपी के लीडर और वीसी के उत्पीड़न की वजह से एक शोध विद्यार्थी का इस तरह आत्महत्या करना एक निंदनीय घटना है.'

सोशल मीडिया वेबसाइट ट्विटर पर आक्रोशित लोग #RohitVemula हैशटैग के साथ ट्वीट कर रहे हैं.

मिर्जा एचवाईडी ने ट्विटर पर लिखा है, 'रोहित की मौत के जिम्मेदार कौन हैं? प्रशासन और सरकार दलितों की रक्षा में असफल हैं.'

ट्विटर पर सौरभ कुमार ने लिखा है, 'शिक्षा व्यवस्था में फैले जातिवाद के खिलाफ पूरी जिदंगी रोहित ने लंबी लड़ाई लड़ी और बलिदान दिया.'

छात्रों का विरोध प्रदर्शन


घटना के बाद एचसीयू के छात्र दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं.

छात्र पुलिस से केंद्रीय राज्य मंत्री एवं बीजेपी नेता बंडारू दत्तात्रेय के खिलाफ एससी/एसटी कानून के तहत मामला दर्ज करने की मांग कर रहे थे.

माना जाता है कि दत्तात्रेय के मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी को लिखे एक पत्र के बाद ही इन छात्रों को निलंबित किया गया था.

तेलंगाना पुलिस ने इस मामले में केंद्रीय राज्य मंत्री बंडारु दत्तात्रेय के खिलाफ एससी-एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है.

दत्तात्रेय के अलावा हैदराबाद सेंद्रल यूनिवर्सिटी के कुलपति और कुछ अन्य लोगों के खिलाफ एससी-एसटी एक्ट और अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है.

First published: 19 January 2016, 15:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी