Home » इंडिया » Sohrabuddin case: Judge who questioned the functioning of the CBI has been changed
 

सोहराबुद्दीन मामला : CBI की जांच पर सवाल उठाने वाली जज को बॉम्बे हाईकोर्ट ने बदला

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 February 2018, 10:52 IST

बॉम्बे हाईकोर्ट ने कथित सोहराबुद्दीन शेख मुठभेड़ मामले से संबंधित याचिका को एक नई पीठ को सौंप दी गयी है. अभी तक इस मामले की सुनवाई जस्टिस रेवती मोहिते डेरे कर रही थी. इस मामले में 3 हफ्ते पहले जज ने रोजाना सुनवाई शुरू की थी.

हाईकोर्ट की बेवसाइट पर शनिवार शाम इस बात की जानकारी दी गई कि इन याचिकाओं की सुनवाई करने वाले जज रेवती मोहित डेरे अब आपराधिक समीक्षा आवेदनों पर सुनवाई नहीं करेंगे. अब इस मामले की सुनवाई. 

ये भी पढ़ें : प्रशांत किशोर की होगी घर वापसी, मोदी और शाह से हुई मीटिंग

 

जस्टिस एनडब्ल्यू सांबरे की नई एकल पीठ करेगी और वे ही अापराधिक समीक्षा आवेदनों को सुनेंगे. इस मामले में सोहराबुद्दीन के भाई रुबाबुद्दीन ने मामले में कुछ आईपीएस अफसरों को आरोपमुक्त किए जाने के निचली अदालत के फैसले को चुनौती दी थी.

अब इस मामले में जस्टिस डेरे के साथ-साथ अन्य जजों की जिम्मेदारी को भी बदला गया है. सीबीआई ने 9 फरवरी को बॉम्बे हाईकोर्ट में दलील दी कि सोहराबुद्दीन शेख के फर्जी मुठभेड़ मामले की सुनवाई कर रही निचली अदालत को सिर्फ सरकारी मंजूरी नहीं होने के कारण कुछ पुलिस अधिकारियों को आरोपमुक्त करना सही नहीं है.

मामले की सुनवाई कर रहीं जस्टिस रेवती मोहिते डेरे का कहना था कि सीबीआई आरोपमुक्त किए गए लोगों के ख़िलाफ़ सभी साक्ष्यों को रिकॉर्ड पर रखने में विफल रही. जस्टिस डेरे के अनुसार ‘सीबीआई यह प्रथम कर्तव्य है कि वह अदालत के समक्ष सभी साक्ष्यों को रखे, लेकिन इस मामले में अदालत द्वारा कई बार पूछने पर भी उसने केवल उन्हीं दो अधिकारियों की भूमिका के बारे में बहस की जिन्हें आरोपमुक्त करने को उसने चुनौती दी है.’

First published: 26 February 2018, 10:50 IST
 
अगली कहानी