Home » इंडिया » Sohrabuddin fake encounter: Witness says under pressure not to depose before court
 

सोहराबुद्दीन फेक एनकाउंटर: गवाह ने बीवी के जरिए कोर्ट में दाखिल लेटर में कहा- उसकी जान को है खतरा

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 June 2018, 13:08 IST

सोहराबुद्दीन शेख और तुलसीराम प्रजापति के कथित फर्जी मुठभेड़ों में एक महत्वपूर्ण गवाह ने सोमवार को अपनी पत्नी के माध्यम से अदालत को एक पत्र भेजा है. इस पत्र में दावा किया गया है उस पर दबाव बढ़ रहा है और उनके जीवन को खतरा है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार सोहराबुद्दीन और प्रजापति के साथ 40 वर्षीय व्यक्ति जो अभियोजन पक्ष का गवाह है , हामिद लाला हत्या मामले में सह आरोपी है. वह सोहराबुद्दीन का करीबी दोस्त था और दिसंबर 2006 में कथित मुठभेड़ में उदयपुर केंद्रीय जेल में प्रजापति के साथ कैदी था.

सोमवार को व्यक्ति की 36 वर्षीय पत्नी अदालत के समक्ष अभियोजन गवाह के रूप में पेश होने से पहले आई. अपने बयान के बाद उसने हिंदी में लिखा एक-पेज का एक पत्र सौंपा. उसने अदालत से कहा कि उसके पति को अदालत के समक्ष पेश होने के खिलाफ दबाव का सामना करना पड़ रहा है.

पत्नी ने अपने पत्र में लिखा है कि "पुलिस ने उसके खिलाफ दबाव डालने के लिए पांच झूठे मामले दर्ज कराए हैं. इन मामलों को इसलिए दायर किया गया है कि ताकि वह इस मामले में गवाह के रूप में पेश न हो. राजनेता और पुलिस गवाही न देने के लिए दबाव डाल रहे हैं''. अपने पत्र में गवाह की पत्नी ने सुरक्षा की मांग भी की है

सीबीआई ने पहले अदालत से कहा था चूंकि वह राजस्थान में कई मामलों में एक वांछित आरोपी था, इसलिए वह इस मामले में पूछताछ योग्य नहीं था. अदालत ने कहा है कि उसे इस सप्ताह अदालत के समक्ष पेश करना आवश्यक है.

अदालत और अभियोजन पक्ष को लिखे पत्र में, व्यक्ति ने कहा कि वह कथित मुठभेड़ों के बारे में सच्चाई जानता था और अदालत के सामने गवाह के रूप में उपस्थित होना चाहता था. उन्होंने आगे कहा कि वह अदालत में आने से डरते थे क्योंकि उन्हें डर था कि उन्हें भी मुठभेड़ में मार दिया जाएगा या आपराधिक मामले में गलत तरीके से फंसाया जाएगा.

ये भी पढ़ें : PM मोदी से मिलने के लिए अब केंद्रीय मंत्रियों को भी लेनी होगी SPG की अनुमति

First published: 26 June 2018, 12:49 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी