Home » इंडिया » Sonia Gandhi and Rahul's Prajatantra Bachao March against Modi govt on 6th May
 

छह मई को कांग्रेस का 'प्रजातंत्र बचाओ मार्च'

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:50 IST

कांग्रेस ने अगस्ता वेस्टलैंड डील में खुद पर हो रहे हमलों के खिलाफ मोर्चाबंदी तेज कर दी है. संसद में मोदी सरकार को घेरने के बाद अब कांग्रेस छह मई को 'प्रजातंत्र बचाओ मार्च' निकालने जा रही है.

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला का कहना है कि छह मई को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी दिल्ली के जंतर-मंतर से संसद भवन तक पैदल मार्च करेंगे, जिसमें कांग्रेस के बड़े नेता भी शामिल होंगे.

congress2

कांग्रेस प्रवक्ता सुरजेवाला ने कहा, "देश से जुड़े मुद्दों पर मोदी सरकार की नाकामियों के खिलाफ प्रजातंत्र बचाओ मार्च निकाला जाएगा. सरकार अब तक कुछ भी करने में असफल रही है."

पढ़ें:अगस्ता वेस्टलैंडः भाजपा के ईंट का जवाब पत्थर से दे रही कांग्रेस

सात मई को आप का प्रदर्शन

इस बीच आम आदमी पार्टी भी इस मामले में विरोध प्रदर्शन की तैयारी में है. पार्टी ने एलान किया है कि सात मई को पीएम नरेंद्र मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास का घेराव किया जाएगा. 

अगस्ता वेस्टलैंड मामले में इटली की मिलान कोर्ट ऑफ अपील्स की टिप्पणी के बाद से बीजेपी और कांग्रेस के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है.

बीजेपी-कांग्रेस में घमासान


शुक्रवार को बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से कई सवाल पूछे थे.

congress

शाह ने कहा था कि चूंकि ये पूरा मामला यूपीए सरकार के कार्यकाल से जुड़ा हुआ है, लिहाजा सोनिया गांधी को बताना चाहिए कि रिश्वत के पैसे किसने-किसने लिए.

जिसके बाद कांग्रेस ने अमित शाह से पूछा था कि क्या मोदी जी से पूछकर वो बताएंगे कि अगस्ता वेस्टलैंड को मेक इन इंडिया अभियान का हिस्सा क्यों बनाया गया.

पढ़ें:केंद्र सरकार: पीएम मोदी की इटली से कोई गुप्त डील नहीं

वहीं संसद की कार्यवाही के दौरान राज्यसभा में सुब्रमण्यम स्वामी ने कई बार सिग्नोरा गांधी नाम का जिक्र किया था, जिस पर कांग्रेस के सांसदों ने जमकर हंगामा मचाया था. स्वामी की टिप्पणियों को कार्यवाही से निकाल दिया गया.

अगस्ता वेस्टलैंड मामले में इटली की मिलान कोर्ट ने 225 पन्नों के अपने फैसले में कांग्रेस आलाकमान के कई नेताओं का जिक्र किया है, हालांकि अदालत ने ये नहीं साफ किया है कि उन्होंने कथित तौर पर क्या गड़बड़ी की. 

First published: 30 April 2016, 4:58 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी