Home » इंडिया » Spice 500 : Israeli bomb used Indian Air Force on terrorist bases balakot
 

ये है वो इजराइली बम जिसे भारतीय वायुसेना ने बरसाया जैश के आतंकी ठिकानों पर

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 March 2019, 11:10 IST

 दुनिया भर में पाकिस्तान के आतंकी ठिकानों पर भारतीय वायु सेना के हमले की खबर के रूप में, मिराज 2000 जेट विमानों को लेकर तरह तरह के हथियारों पर अटकलें शुरू हो गई हैं. शुरुआती रिपोर्टों में कहा गया है कि भारतीय वायु सेना ने लेजर-निर्देशित बमों का इस्तेमाल किया. विशिष्ट लेजर-निर्देशित बमों की अधिकतम सीमा लगभग 15 किमी होती है, जो दुश्मन के फाइटर जेट्स और एयर डिफेंस को ध्वस्त कर सकते हैं.  भारतीय वायु सेना को इजरायली स्पाइस बम किट संचालित करने के लिए जाना जाता है.

स्पाइस: इजरायल निर्मित स्पाइस (स्मार्ट सटीक प्रभाव और लागत प्रभावी) बम सबसे बड़ा बम है, जिसका इस्तेमाल भारतीय वायु सेना करती है. इजरायल की फर्म राफेल एडवांस्ड डिफेंस सिस्टम्स लिमिटेड द्वारा निर्मित, 2000-पौंड सटीक निर्देशित बमों का उपयोग फ्रांसीसी मूल के मिराज 2000 सेनानियों पर किया जाता है. एक सुखोई -30 एमकेआई लड़ाकू दुश्मन के कवच और कर्मियों की एकाग्रता को नष्ट करने के लिए 550-एलबी वर्ग के 26 बम ले जा सकता है. जबकि चीन की आर्मी के पास 500 पाउंड से लेकर 3,000-एलबी वर्ग तक के पारंपरिक बम हैं. इनमें से अधिकांश सामान्य प्रयोजन बम चीन के उत्तर उद्योग निगम द्वारा विकसित किए गए हैं.

स्पाइस किट एक परिष्कृत मार्गदर्शन प्रणाली है - जिसमें पिनपॉइंट सटीकता के लिए जड़त्वीय नेविगेशन, उपग्रह मार्गदर्शन और इलेक्ट्रो-ऑप्टिकल सेंसर शामिल हैं. SPICE-1000 किट, जो 500 किलोग्राम के बम के लिए उपलब्ध है, की ग्लाइड रेंज लगभग 100 किमी है, जबकि SPICE-2000 (1,000 किलोग्राम बम के लिए) की ग्लाइड रेंज लगभग 60 किमी है.

 

SPICE-1000 और SPICE-2000 का जमीन-आधारित रडार द्वारा पता लगाना भी मुश्किल है, उनके छोटे आकार को देखते हुए, एक विमान को दूरी पर स्थित लक्ष्य हिट करने में सक्षम बनाता है. इसके अलावा, SPICE जैसे उपग्रह-निर्देशित मून लेजर-निर्देशित बमों के विपरीत ये भारी बादल कवर और अन्य मौसम की स्थिति से प्रभावित नहीं होते हैं.

2015 के अंत में रक्षा मंत्रालय की एक विज्ञप्ति में SPICE-2000 को भारतीय वायु सेना में शामिल करने का उल्लेख किया गया था. इजरायल और फ्रांसीसी मीडिया ने बताया है कि भारत 36 राफेल लड़ाकू विमानों के बेड़े के लिए स्पाइस मून पर विचार कर रहा था. भारतीय वायु सेना एक इजरायली मूल की क्रूज मिसाइल भी चलाती है जिसे क्रिस्टल भूलभुलैया ( Crystal Maze) कहा जाता है, जिसे मिराज 2000 पर एकीकृत किया गया है.

170 से ज्यादा पायलटों की जान ले चुका है पाकिस्तानी F-16 को गिराने वाला MIG-21

First published: 4 March 2019, 11:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी