Home » इंडिया » Sri Ravi Shankar's event low on security, safety: Delhi police report
 

वर्ल्ड कल्चरल फेस्टिवल: दिल्ली पुलिस के मुताबिक सुरक्षा में तमाम खामियां

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 March 2016, 14:07 IST

यमुना किनारे दिल्ली में 11 मार्च से होने जा रहे श्री श्री रविशंकर के कार्यक्रम 'वर्ल्ड कल्चरल फेस्टि‍वल' पर दिल्ली पुलिस ने सवाल उठाए हैं.

पिछले हफ्ते कार्यक्रम स्थल का जायजा लेने वाले दिल्ली पुलिस के डीसीपी रैंक के अफसर ने वहां के सुरक्षा इंतजामों पर सवालिया निशान लगाया है. इसकी रिपोर्ट अधिकारी ने शहरी विकास मंत्रालय, आर्ट ऑफ लिविंग, उपराज्यपाल और दिल्ली के पुलिस कमिश्नर आलोक कुमार वर्मा को भेज दी है.

कार्यक्रम के आयोजक आर्ट ऑफ लिविंग ने सात अस्थायी पुल (पीपा) का वादा किया था जबकि अब तक एक ही पुल का निर्माण हुआ है. सेना की मदद से दूसरा पीपा पुल तैयार किया जा रहा है जिसकी राष्ट्रीय स्तर पर आलोचना हो रही है.

पढ़ें: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी नहीं जाएंगे श्री रविशंकर के महायोजन में

रिपोर्ट के अनुसार एक पीपा पुल को एक घंटे में ज्यादा से ज्यादा 15 हजार लोगों द्वारा इस्तेमाल किया जा सकता है. जबकि इस दौरान कार्यक्रम में आने वाले लोगों की संख्या करीब तीन लाख के करीब आंकी जा रही है. आयोजकों का दावा है कि इस कार्यक्रम में कुल 35 लाख लोग हिस्सा लेंगे.

दिल्ली पुलिस के सुरक्षा अधिकारी का कहना है कि पीपा पुल को खुला बनाया गया है इसमें दोनों तरफ से पकड़ने के लिए तारों का जाल नहीं बिछाया गया है. ऐसे में भगदड़ की स्थिति में लोगों के नदी में गिरने की आशंका है.

दिल्ली पुलिस के अनुसार पार्किंग एरिया भी सही तरीके से तैयार नहीं किया गया है. पार्किंग तक जाने वाली रोड भी सही नहीं है.

11 मार्च से 13 मार्च तक होने वाले इस कार्यक्रम को लेकर सीपीडल्ब्यूडी, डीडीए और पीडब्ल्यूडी की ओर से कार्यक्रम के लिए बना जा रहे मुख्य स्टेज के ढांचे को मंजूरी नहीं दी गई है.

यमुना फिर खतरे में: पवित्रता ही प्रदूषित करेगी पवित्र नदी को

दूसरी ओर दिल्ली सरकार ने नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) से कहा है कि कार्यक्रम को लेकर दिल्ली पुलिस और फायर विभाग की तरफ से परमीशन नहीं दी गई है.

वहीं सुरक्षा को लेकर चिंताएं बढ़ती जा रही हैं. सूत्रों के मुताबिक सुरक्षा एजेंसियों को यहां गंभीर भगदड़ की आशंका भी है क्योंकि किसी इमरजेंसी की हालत में यहां निकासी की योजना पुख्ता नहीं है.

इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शिरकत कर सकते हैं. हालांकि उनकी सुरक्षा टीम ने भी इस कार्यक्रम में सुरक्षा पर सवाल उठाए हैं.

First published: 9 March 2016, 14:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी