Home » इंडिया » sri sri event clear it to NGT
 

एनजीटी ने श्री श्री के आयोजन पर लगाई लताड़, कहा यमुना से न हो छेड़छाड़

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 March 2016, 14:53 IST

श्री श्री रविशंकर के विश्व संस्कृति महोत्सव 2016 के आयोजन को लेकर एनजीटी ने आयोजकों को कड़ी फटकार लगाई है.

एनजीटी ने कहा है कि कार्यक्रम के दौरान इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए की यमुना में किसी तरह का कोई भी एंजाइम नहीं डाला जाए.

एनजीटी ने अपने आदेश में कहा है कि कार्यक्रम के दौरान यमुना के पानी में एंजाइम के इस्तेमाल से पैदा होने वाली बदबू को रोका जा सकता है. इसके लिए आयोजक विशेष प्रयास करें.

पढ़ें: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी नहीं जाएंगे श्री श्री रविशंकर के महायोजन में

वहीं दूसरी तरफ एनजीटी की सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार ने बताया कि हमने कार्यक्रम के आयोजकों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए अलग से स्टेज बनाने को कहा है.

इस सुनवाई के दौरान केंद्रीय जल संसाधन मंत्रालय ने बताया कि उसने ग्यारह मार्च से तेरह मार्च तक चलने वाले विश्व संस्कृति महोत्सव की इजाजत नहीं दी है.

वहीं एनजीटी ने पर्यावरण मंत्रालय को फटकार लगाते हुए कहा कि मंत्रालय ने ट्रिब्यूनल के निर्देश के बावजूद कोई हलफनामा क्यों नहीं दाखिल किया.

एनजीटी ने आदेश में साफ कहा कि कार्यक्रम आयोजक पूरे कार्यक्रम के दौरान यमुना नदी से दूरी बना कर रहें और हमारी ओर से जारी किये गये दिशा-निर्देशों के पालन को कड़ाई से सुनिश्चित करें.

वहीं इस विवादित आयोजन पर श्री श्री रविशंकर ने कल रात ट्वीट करते हुए राजनीतिक दलों से अपील की थी कि वह इस आयोजन को राजनीतिक मुद्दा न बनाया जाए.

shri-shri

वहीं दूसरी तरफ आज संसद में यमुना के किनारे प्रस्तावित श्री श्री रविशंकर के तीन दिवसीय सांस्कृतिक कार्यक्रम के विरोध में विपक्षी सांसदों ने जम कर हंगामा किया.

विपक्षी सांसद श्री श्री के कार्यक्रम से हो रहे यमुना के नुकसान को गंभीर मामला बताते हुए फौरन चर्चा की मांग कर रहे थे. जेडीयू के नेता शरद यादव ने संसद में कहा कि सरकार ने एक आदमी के पीछे पूरी सेना लगा दी है. सेना का गलत इस्तेमाल किया जा रहा है.

यादव की इसी बात को आगे बढ़ाते हुए लेफ्ट के सीताराम येचुरी ने भी सरकार को घेरते हुए सवाल उठाया कि क्या भारतीय सेना का इस्तेमाल प्राइवेट कार्यक्रम के लिए ब्रीज बनवाने के लिए किया जाना चाहिए.

इसके बाद कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद ने कहा कि कांग्रेस पार्टी किसी भी सांस्कृतिक कार्यक्रम के आयोजन के खिलाफ नहीं है, लेकिन सबसे बड़ा सवाल उठता है कि पर्यावरण का होगा क्या होगा?

इसके बाद सरकार की ओर से केंद्रीय मंत्री मुख्‍तार अब्बास नकबी ने श्री श्री रविशंकर के इस कार्यक्रम आयोजन का बचाव किया. नकवी ने संसद में कहा कि श्री श्री की संस्था खुद एन्वायारन्मेंट फ्रेंडली है.

First published: 9 March 2016, 14:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी