Home » इंडिया » Sri Sri’s unsuccessful attempt at settling Ayodhya dispute began in 2017
 

2017 से अयोध्या विवाद की मध्यस्थता में लगे श्री श्री को कितनी सफलता मिली ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 March 2019, 17:29 IST

सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थता के लिए रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद टाइटल सूट विवाद का हल खोजने का आदेश दिया और मध्यस्थता पैनल में दो अन्य लोगों के साथ आर्ट ऑफ लिविंग (एओएल) के संस्थापक श्री श्री रविशंकर का नाम रखा है. 2017 में पहली बार श्री श्री ने इसके लिए प्रयास शुरू किये थे. लेकिन वह अब तक विवादित पक्षों के बीच मध्यस्थता करने में असफल रहे हैं. इससे पहले एओएल के संस्थापक ने विवाद में सभी हितधारकों से मिलने के लिए लखनऊ और अयोध्या का दौरा भी किया था.

श्री श्री पहली बार 15 नवंबर 2017 को लखनऊ में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिले. आदित्यनाथ ने वार्ता का स्वागत किया और बाद में संवाददाताओं से कहा, "चूंकि सरकार इस मामले में पार्टी नहीं बन सकती है, मैंने पहले ही हितधारकों से कहा है कि यदि वे आ सकते हैं तो बातचीत के माध्यम से मामले पर अंतिम निर्णय लिया जा सकता है. लेकिन अगर वे इस तरह के फैसले पर नहीं आ सकते हैं ... अगर वे इस पर बात नहीं कर सकते हैं ... तो यह अदालत में है और हम अदालत के फैसले को मानेंगे''.

 

सीएम से मुलाकात के बाद श्री श्री ने आरएसएस प्रचारक महिराजद्वाज सिंह, अयोध्या के दिगंबर अखाड़ा के महंत सुरेश दास, भाजपा नेता विनय कटियार और कई अन्य मुस्लिम संगठनों के प्रतिनिधियों से मुलाकात की. उन्होंने निर्मोही अखाड़े के राजा रामचंद्रचार्य, हिंदू महासभा के स्वामी चक्रपाणि और लखनऊ में शिवसेना के राज्य प्रमुख अनिल सिंह से भी मुलाकात की. इसके अगले दिन 16 नवंबर को श्री श्री ने अयोध्या का दौरा किया और कहा कि बाबरी मस्जिद-राम मंदिर विवाद का एकमात्र समाधान हिंदू और मुस्लिम दोनों के सहयोग से एक भव्य मंदिर का निर्माण करना है.

उन्होंने कहा दोनों समुदायों के सहयोग से निर्मित इस सपने को सच किया जा सकता है. देश में दोनों समुदायों के लोगों और युवाओं के बीच उदारता, प्रेम और भाईचारा है. श्री श्री ने यह भी कहा कि वह कोई समाधान नहीं दे रहे हैं और एक एजेंडा या फॉर्मूला के साथ अयोध्या नहीं आए हैं.

उन्होंने कहा “मैं खुले दिमाग के साथ अयोध्या का दौरा कर रहा हूं, ताकि सभी को अपनी रणनीति पर चर्चा करने के लिए एक मंच मिल सके. मैं एक उम्मीद के साथ आया हूं कि यह बातचीत के जरिए हो सकता है.” श्री श्री ने बाबरी विध्वंस के मुकदमे में मुकदमे वाले निर्मोही अखाड़ा और हाजी महबूब के संत राम जन्मभूमि न्यशेद नृत्य गोपाल दास से मुलाकात की.

अयोध्या रामजन्मभूमि-बाबरी विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थता के लिए तय किए ये 3 नाम

First published: 8 March 2019, 17:29 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी