Home » इंडिया » Statue of Unity could have paid for 2 IITs, 5 IIMs and many agri projects
 

'स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी' की कीमत में चलाये जा सकते हैं 2-IIT, 5-IIM और कई कृषि प्रोजेक्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 October 2018, 16:48 IST

Statue of Unity की अनुमानित कीमत 3000 करोड़ रुपये रुपये बताई जा रही है. स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी की कीमत की तुलना की जाये तो इतनी कीमत में दो नए आईआईटी परिसर, पांच भारतीय प्रबंध संस्थान (आईआईएम) परिसर और छह भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) परिसर स्थापित किये जा सकते हैं. प्रतिमा की निर्माण लागत राशि गुजरात सरकार द्वारा केन्द्र सरकार को बताई गई अनुमानित राशि की दोगुना है.

यही नहीं इस निर्माण लागत का इस्तेमाल भूमि, कवर की मरम्मत, नवीकरण और 162 लघु सिंचाई योजनाओं की बहाली और 425 छोटे चेक डैम के निर्माण से 40,192 हेक्टेयर की सिंचाई के लिए किया जा सकता था. सरदार पटेल ने स्वतंत्र भारत के प्रथम उप प्रधानमंत्री और गृह मंत्री के रूप में लोकप्रिय रियासतों के विलय में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

हालांकि गुजरात में हजारों जनजातीय और किसान मूर्ति के अनावरण के खिलाफ बड़े पैमाने पर विरोध करने की योजना बना रहे हैं. वे परियोजना की लागत से नाखुश हैं और पर्याप्त पुनर्वास प्रयासों की कमी की बात कर रहे हैं. एनडीटीवी के अनुसार गुजरात के नर्मदा जिले के 72 गांवों में मूर्ति के निर्माण ने 75,000 जनजातियों को प्रभावित किया है. इन गांवों में से 32 सबसे अधिक प्रभावित हुए हैं.

19 गांवों में पुनर्वास कथित तौर पर पूरा नहीं हुआ है लेकिन मुआवजे का भुगतान किया गया है, लेकिन भूमि और नौकरियों जैसी प्रतिबद्धता 13 गांवों में पूरी नहीं हुई है. मूर्ति के अनावरण कार्यक्रम के दौरान किसानों ने नर्मदा नदी में खुद को डूबने की भी धमकी दी है. विरोध करने वालों में चार जिलों-छोटा उदेपुर, पंचमहल, वडोदरा और नर्मदा के लोग शामिल हैं. गुजरात नर्मदा बांध में कम जल के कारण जल संकट का सामना करना पड़ रहा है.

ये भी पढ़ें : 250 इंजीनियरों के सामने 182 मीटर ऊंचे सरदार को खड़ा करने में क्या थी सबसे बड़ी चुनौती ?

First published: 31 October 2018, 16:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी