Home » इंडिया » Statue Of Unity will not remain tallest statue of world, Pm modi will inaugurate the other one
 

तीन साल बाद Statue Of Unity नहीं रहेगी दुनिया की सबसे बड़ी प्रतिमा, जानें कौन तोड़ेगा रिकॉर्ड

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 November 2018, 12:10 IST

महाराष्ट्र सरकार भी अरब सागर में शिवाजी महाराज की एक विशालकाय प्रतिमा बना रही है जिसकी ऊंचाई 'स्टैचू ऑफ़ यूनिटी' से 28 मीटर ज्यादा यानी लगभग 210 मीटर की होगी. इसका निर्माण भी लार्सन एंड टूब्रो कंपनी कर रही है जिसने 'स्टैचू ऑफ़ यूनिटी' को बनाया है.

17 सालों से अनावरण के इंतजार में कपड़े से लिपटी है देश की पहली महिला PM इंदिरा गांधी की मूर्ति

अरब सागर में बनने वाली ये प्रतिमा 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' बनाने में लगी लागत से काफी काम राशि पर बन कर तैयार हो जाएगी. प्रतिमा वबनाने वाली इस कंपनी की मानें तो इस मूर्ति को बनाने में कुल 2500 करोड़ रुपये का खर्च आएगा, जबकि स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के निर्माण में लगभग 3000 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं. शिवाजी महाराज की यह मूर्ति 2021 तक बनकर तैयार हो जाएगी.

अरब सागर की ये मूर्ती तैयार होते ही 'स्टैचू ऑफ़ यूनिटी' का दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति होने का तमगा छीन लेगी. इस तरह से देखा जाए तो केवल तीन सालों के लिए ही ये 'स्टैचू ऑफ़ यूनिटी' के पास सबसे ऊंची प्रतिमा का रिकॉर्ड रहेगा. शिवाजी की यह 192 मीटर उंची व राजभवन से करीब 1.5 किलोमीटर दूर, समुद्र में 3.5 किलोमीटर अंदर जाकर स्थापित की जाएगी.

First published: 1 November 2018, 12:04 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी