Home » इंडिया » sting video shows Trinamool leaders taking cash
 

टीएमसी नेताओं के स्टिंग ने संसद में मचाया बवाल, लेफ्ट और टीएमसी आमने-सामने

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 March 2016, 16:08 IST

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से लगभग एक महीने पहले एक न्यूज वेबसाइट द्वारा कथित तौर पर जारी किए गए स्टिंग में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के बड़े नेताओं को रिश्वत लेते हुए दिखाए जाने के बाद से राज्य की राजनीति में भूचाल सा आ गया है.

इस स्टिंग के कारण संसद में लेफ्ट और टीएमसी के नेता आमने-सामने दिखे. सदन में दोनों पक्षों के बीच इस मामले में जमकर कहासुनी हुई. लेफ्ट पार्टियां इस स्टिंग को सही ठहराते हुए ममता बनर्जी से इस्तीफे की मांग कर रही हैं. लेकिन  टीएमसी ने इस स्टिंग को फर्जी बताया है.

इस मामले में बीजेपी नेता और पश्चिम बंगाल के प्रभारी सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि ममता बनर्जी को तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए. सिंह ने कहा कि इलेक्शन के कुछ दिन पहले वे अब सीएम बने रहने के लायक नहीं हैं. हम केंद्र सरकार से इस मामले में सीबीआई जांच की मांग करते हैं.

वहीं सीपीएम के स्टेट सेक्रेटरी सूर्यकांत मिश्रा ने बंगाल की एक चुनावी रैली में कहा कि यह पूरी तरह से शर्मनाक है और ऐसी पार्टी फिर भी सत्ता में है. उन्होंने लोगों से हजारों करोड़ रुपए लूटे हैं. हम इस मामले में चुनाव आयोग से हस्तक्षेप की मांग करते हैं और बंगाल में प्रेसिडेंट रूल लगाया जाना चाहिए.

गौरतलब है कि नारद न्यूज के नाम की एक वेबसाइट ने कोलकाता में एक प्रेस कांफ्रेंस करके इस स्टिंग को जारी किया है. इस स्टिंग में बंगाल के एक मंत्री सुब्रत मुखर्जी और फरहाद हाकिम सहित टीएमसी के 11 नेताओं ने चेन्नई की एक फर्जी कंपनी के प्रतिनिधि से घूस लिया. न्यूज वेबसाइट ने घूस लेने का वीडियो जारी किया है.

इस न्यूज वेबसाइट ने दावा किया है कि यह स्टिंग टेप पिछले दो साल के दौरान शूट किया गया. न्यूज वेबसाइट ने बताया कि उसने साल 2014 में इम्पेक्स कंसल्टेंसी नाम से एक काल्पनिक कंपनी बनाई. वेबसाईट के दावे के मुताबिक इस कंपनी के पक्ष में काम करवाने के लिए उसने कई नेताओं को रिश्वत के तौर पर एक करोड़ रुपए से ज्याद खर्च किये.

टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने इस स्टिंग पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह राजनीतिक दुर्भावना के कारण किया गया कृत्य है. उन्होंने कहा कि पार्टी उस वेबसाइट के खिलाफ 'छेड़छाड़ वाले वीडियो' प्रसारित करने के आरोप में मानहानि का केस दर्ज करेगी.

एक बयान में ब्रायन ने कहा कि हम लोग पूरी तरह से पारदर्शी हैं और बंगाल के लोग इस बात को अच्छी तरह से जानते हैं. हमारे राजनीतिक विरोधी इन फर्जी वीडियो के सहारे हमारी छवि खराब करने की कोशिश कर रहे हैं. लेकिन वे हमें किसी भी तरह से नहीं हरा सकते और न ही डरा सकते हैं.

(कैच न्यूज इस स्टिंग वीडियो की सत्यता की पुष्टि नहीं करता है)

First published: 15 March 2016, 16:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी