Home » इंडिया » subramanian swamy again allegation on rbi chief raghuram rajan
 

सुब्रमण्यम स्वामी ने फिर किया रघुराम राजन पर हमला

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 May 2016, 22:42 IST
(एएनआई)

बीजेपी के राज्यसभा से सांसद और पार्टी के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन पर आज एक बार फिर जबरदस्त हमला बोला है.

सुब्रमण्यन स्वामी ने राजन के खिलाफ छह नए आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उन्हें तत्काल गवर्नर पद से बर्खास्त करने की मांग की है.

स्वामी ने आरोप लगाया कि राजन ने ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर लघु एवं मझोले उद्योगों को नुकसान पहुंचाया है.

स्वामी ने कहा कि गवर्नर को ब्याज दर बढ़ाने और उसे ऊंचा रखने के नतीजों के बारे में समझना चाहिए था. स्वामी ने कहा कि उनकी यह नीति जानबूझकर थी. इसके पीछे उनकी मंशा राष्ट्र विरोधी थी.

इसके साथ ही उन्होंने यह भी दावा किया कि राजन शिकागो विश्वविद्यालय के अपने ईमेल आईडी के जरिए गोपनीय और संवेदनशील वित्तीय सूचनाएं बाहर भेजते रहे हैं जो कि बेेहद खतरनाक है.

स्वामी ने राजन पर आरोप लगाया कि वह सार्वजनिक तौर पर बीजेपी सरकार की खिल्ली भी उड़ाते रहते हैं.

स्वामी ने कहा कि उनके द्वारा रिजर्व बैंक के गवर्नर पर जो छह आरोप लगाए हैं वह प्रथम दृष्टया सही हैं. ऐसे में राष्ट्र हित में राजन को तत्काल बर्खास्त किया जाना चाहिए.

स्वामी के द्वारा मोदी को एक पखवाड़े में लिखे दूसरे पत्र में आरोप लगाया है कि एक संवेदनशील तथा काफी ऊंचे सरकारी पद पर होने के बावजूद राजन अपने ग्रीन कार्ड के नवीकरण के उद्येश्य से बीच-बीच में अमेरिका की यात्राएं करते रहे हैं जो नवीनीकरण के लिए अनिवार्य है.

उन्होंने कहा कि रिजर्व बैंक गवर्नर का पद काफी ऊंचा होता है और इसके लिए देशभक्ति तथा राष्ट्र के प्रति बिना शर्त वाली प्रतिबद्धता की जरूरत होती है. स्वामी ने आरोप लगाया कि राजन अमेरिका के डोमिनेटेड ग्रुप ऑफ 30 के सदस्य हैं. यह समूह वैश्विक अर्थव्यवस्था में अमेरिका की प्रभुत्व की स्थिति का बचाव करता है.

उन्होंने कहा कि राजन द्वारा ब्याज दरों को ऊंचा रखने पर जोर से घरेलू लघु एवं मझोले उद्योगों में मंदी आई है. इससे न केवल उत्पादन में भारी गिरावट आई है बल्कि बड़ी संख्या में अर्द्धकुशल श्रमिक बेरोजगार भी हुए हैं.

वहीं स्वामी के इन आरोपों पर वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि वह स्वामी के द्वारा राजन पर लगाए किसी भी आरोप का समर्थन नहीं करते है.

मोदी सरकार के दो साल पूरा करने के अवसर पर समाचार चैनल एनडीटीवी से अरुण जेटली ने कहा कि मैं किसी पर भी निजी टिप्‍पणी का समर्थन नहीं करता. आरबीआई गवर्नर को अकेला छोड़ दें. आरबीआई एक बेहद अहम संस्‍थान है. वो अपने फैसले खुद लेता है. कोई उन फैसलों से सहमत या असहमत हो सकता है लेकिन वो सिर्फ मुद्दों पर बहस भर है.

First published: 26 May 2016, 22:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी