Home » इंडिया » Subramanian Swamy: miracle can save Jayalalitha life
 

सुब्रह्मण्यम स्वामी: जयललिता को कोई चमत्कार ही बचा सकता है

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 December 2016, 16:32 IST
(एजेंसी)

भारतीय जनता पार्टी के राज्यसभा से सांसद और वरिष्ठ नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी ने तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता के स्वास्थ्य को लेकर गहरी चिंता व्यक्त की है.

उन्होंने कहा कि वो उम्मीद करते हैं कि जयललिता जीवन की इस लड़ाई से सफलतापूर्वक उबर पाएंगीं और स्वस्थ हो जाएंगी. स्वामी ने कहा कि पिछले 74 दिनों से जयललिता अस्पताल में जिंदगी और मौत के बीच लड़ाई को जीत कर घर वापस आने वाली थीं.

उन्होंने कहा, “वो चमत्कारिक अंदाज में ठीक हो रही थीं, लेकिन अचानक 74 दिनों के संघर्ष के बाद उनके हार्ट में कुछ परेशानी निकल आई, जबकि वो एक-दो दिन में घर आनेवाली थीं. अब वो लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर हैं. उन्हें देखने के लिए मेडिकल एक्सपर्ट आ रहे हैं लेकिन कह नहीं सकते कि एक और चमत्कार होगा या नहीं. अब तो चमत्कार ही बचा सकता है उन्हें”

स्वामी ने कहा कि जयललिता में कई खूबियां हैं. उन्होंने एम गोपालन रामचंद्रन (एमजीआर) की विरासत को न सिर्फ आगे बढ़ाया है बल्कि उनके कई सपने साकार भी किया.

उन्होंने कहा, “वह बहुत तेज-तर्रार महिला हैं, सुशिक्षित हैं, वह अक्सर किताबें पढ़ती रही हैं. वो जब भी बात करती हैं तो वह तथ्यपरक होती हैं. उनमें फैक्ट्स एंड फिगर्स बिल्कुल करेक्ट होते हैं. इसलिए एक हद तक कहा जाय तो वह एमजीआर से बड़ी हस्ती हो गई हैं.”

राजनीतिक विरासत और तमिलनाडु में भाजपा की स्थिति पर उन्होंने कहा कि राज्य में भाजपा का कोई चेहरा इतना कद्दावर नहीं है जो उनकी जगह ले सके या उनकी बराबरी कर सके.

एआईएडीएमके के लोग भी उनकी अनुपस्थिति में वो जगह पूरा नहीं कर सकते खासकर तब जब वो सभी दुख में डूबे हों.

गौरतलब है कि मुख्‍यमंत्री जे जयललिता को दिल का दौरा पड़ने के बाद से तमिलनाडु में अलर्ट घोषित कर दिया गया है. जयललिता को रविवार शाम को अपोलो अस्पताल में अचानक दिल का दौरा पड़ा.

इस समय विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम की निगरानी में उनका इलाज गहन चिकित्सा कक्ष में हो रहा है. कुछ दिन पहले अपोलो हॉस्पिटल्स के चेयरमैन प्रताप सी रेड्डी ने कहा था कि तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता ‘‘पूरी तरह स्वस्थ हो गई हैं.’’

अपोलो अस्‍पताल की ओर से जारी बुलेटिन में कहा गया, ”कार्डियोलॉजिस्‍ट, पल्‍मोनोलॉजिस्‍ट और क्रिटिकल केयर स्‍पेशलिस्‍ट्स उनका ट्रीटमेंट और मॉनिटरिंग कर रहे हैं. वह एक्‍स्‍ट्राकार्पोरियल मेमब्रेन हर्ट असिस्‍ट डिवाइस पर हैं. लंदन से डॉक्‍टर रिचर्ड से भी परामर्श लिया गया है.”

First published: 5 December 2016, 16:32 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी